कोई ऐसा सागा नहीं जिसे मैंने ठगा नहीं, अमर सिंह के जीवन का मूल मंत्र

Share it