Top
Jan Shakti

मिसाल: दिल्ली राजधानी में फिर हुई नफरत की हार इंसानियत की हुई विजय, अंकित सक्सेना के परिवार ने दी इफ्तार पार्टी, डॉ. कफील हुए शामिल

मिसाल: दिल्ली राजधानी में फिर हुई नफरत की हार इंसानियत की हुई विजय, अंकित सक्सेना के परिवार ने दी इफ्तार पार्टी, डॉ. कफील हुए शामिल
X

नई दिल्ली।नई दिल्ली। दूसरे धर्म की लड़की से प्यार के चलते जान गंवाने वाले दिल्ली के अंकित सक्सेना के परिवार ने रविवार को इफ्तार पार्टी का आयोजन किया। अपने इकलौते बेटे को अचानक गंवाने के बाद परिवार ने प्रेम और भाईचारे का संदेश देने के लिए ये इफ्तार पार्टी आयोजित की। इस मौके पर करीब 200 की संख्या में लोग शामिल हुए। इस दौरान अंकित सक्सेना को याद किया गया, वहीं इस कदम के जरिए एक तरह से प्रेम और भाईचारे को बढ़ावा देने का संदेश भी देने की कोशिश की गई। पेशे से फोटोग्राफर 23 वर्षीय अंकित सक्सेना की इसी साल फरवरी में हत्या कर दी गई थी।





इफ्तार पार्टी का पूरा आयोजन अंकित सक्सेना के नाम से बनाए गए ट्रस्ट की ओर से किया गया। इसमें अंकित के परिवार के अलावा उनके दोस्तों ने खास योगदान दिया। इस मौके पर केवल पास-पड़ोस के लोगों ने शिरकत नहीं की। पूर्व नौकरशाह और कार्यकर्ता हर्ष मंदर और गोरखपुर के डॉक्टर कफील अहमद भी शामिल हुए। अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने बताया कि करीब 15 दिन पहले उनके मन में इस तरह का विचार आया। उन्होंने अंकित के दोस्तों से इस बारे में चर्चा की।यशपाल सक्सेना ने बताया कि इफ्तार पार्टी के आयोजन में उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम ने काफी सहयोग किया। उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम मेरे भाई की तरह हैं। उन्होंने सलाह दी की हम ऐसा कर सकते हैं। हालांकि मुझे इफ्तार पार्टी के आयोजन का बिल्कुल भी अनुभव नहीं था। ऐसे में मोहम्मद इजहार आलम ने कहा कि वो इसमें मदद करेंगे।




अंकित के पिता ने बताया कि मोहम्मद इजहार आलम के आगे आने के बाद मैंने सोचा कि हमें ऐसा करना चाहिए क्योंकि यह उस ट्रस्ट के लिए एक बड़ी शुरुआत होगी जिसे मैंने अंकित के नाम पर बनाया है। मुझे उम्मीद है कि इस कदम से शांति और सद्भाव का संदेश फैलेगा। हमारी कोशिश यही है कि लोग संकीर्ण सोच से बाहर निकलें, जिससे किसी और परिवार के साथ ऐसी कोई घटना नहीं हो।बता दें कि अंकित सक्सेना की हत्या का आरोप उसकी गर्लफ्रेंड के परिवारवालों पर ही लगा है। जानकारी के मुताबिक लड़की के परिजन इस रिश्ते के खिलाफ थे और इसीलिए उन्होंने अंकित की बीच सड़क गला रेतकर हत्या कर दी थी। घटना के बाद इस मामले को मजहबी रंग देने की कोशिश भी उस समय हुई थी, हालांकि अपने जवान बेटे को गंवाने के बाद भी अंकित के पिता यशपाल सक्सेना ने इस मामले को तूल देने से इंकार कर दिया था। हालांकि अंकित के पिता का मानना है कि उनके बेटे के दोषियों को सजा जरूर मिलनी चाहिए।

Next Story
Share it