Top
Jan Shakti

मोदी के गढ़ में विजय रुपाणी और नितिन पटेल के बीच घमासान की खबर, पढ़िए शीतयुद्ध की इनसाइड स्टोरी ?

मोदी के गढ़ में विजय रुपाणी और नितिन पटेल के बीच घमासान की खबर, पढ़िए शीतयुद्ध की इनसाइड स्टोरी ?
X

गुजरात में जैसे-तैसे सरकार बनाकर अपनी इज्जत बचाने वाले मोदी को जल्द बड़ा झटका लग सकता है। खबर है कि राज्य के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल खुद के साथ अनदेखी करने की वजह से कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं। हालांकि ये कहना जल्दबाजी होगा कि क्या वो डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा देंगे, लेकिन पार्टी कार्यकर्ताओं में ये चर्चा आम है कि आखिरकार नितिन पटेल इतना अपमान का घूंट क्यों पी रहे हैं? पिछले दिनों पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर सनसनी फैला दी थी जल्द ही गुजरात में सरकार का चेहरा बदला जाएगा।


गुजरात में अपनों के बीच खींचतान !

हालांकि, विजय रुपाणी ने बिना देर किए हार्दिक पटेल की बातों को अफवाह करार दिया और कहा कि ऐसे कोई बात नहीं। मेरी इमेज को खराब करने की साजिश की जा रही है। लेकिन क्या ये सच नहीं है कि डिप्टी सीएम नितिन पटेल के साथ अनदेखी हो रही है। सबसे पहले तो ये उन दिनों की बात है जब आनंदी बेन पटेल का सीएम पद से इस्तीफा हुआ था। नए मुख्यमंत्री के तौर पर नितिन पटेल का नाम करीब-करीब फाइनल हो गया था लेकिन अचानक से घोषणा के चंद घंटे पहले विजय रुपाणी का नाम सामने आ गया। बात यहीं खत्म नहीं होती है साल 2017 में गुजरात में फिर से बीजेपी की सरकार बनी तो भी सिनियर नेता होने के नाते भी नितिन पटेल को डिप्टी सीएम बनाया गया। हैरानी की बात तो ये है कि उन्हें वित्त मंत्रालय नहीं दिया गया जिससे वो नाराज हो गए थे


नितिन पटेल की अनदेखी पर उठे सवाल ?

भले ही मीडिया में रुपाणी और नितिन पटेल के बीच दूरियों की खबर नहीं चल रही हो, लेकिन सच्चाई तो ये है कि कार्यकर्ता तक भी इस बात को समझने लगे है कि दोनों के बीच सबकुछ ठीक नहीं है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विजय रुपाणी जब कोई फैसला लेते हैं तो उसमें नितिन पटेल को शामिल नहीं करते हैं। दोनों के बीच चला आ रहा शीतयुद्ध का अंजाम क्या होगा ये तो देखने वाली बात होगी। लेकिन खबर मिली है कि मुख्यमंत्री विजय रुपाणी को इजरायल दौरे पर जाना था। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस बात का एलान पहले ही हो गया था कि रुपाणी की गैरमौजूदगी में नितिन पटेल मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालेंगे लेकिन विजय रुपाणी ने नितिन पटेल को 6 दिनों के लिए अतिरिक्त 3 विभागों की ही जिम्मेदारी दी यानी उन्हें कार्यकारी मुख्यमंत्री नहीं बनाया गया।

Next Story
Share it