Top
Jan Shakti

औवेसी ने मुस्लिम पर्सनलॉ बोर्ड से कर दी यह मांग, मौलाना एजाज़ अरशद कासमी की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

औवेसी ने मुस्लिम पर्सनलॉ बोर्ड से कर दी यह मांग, मौलाना एजाज़ अरशद कासमी की बढ़ सकती हैं मुश्किलें
X

नई दिल्ली: मंगलवार शाम को टीवी चैनल जी हिन्दुस्तान पर एक शर्मनाक घटना देखने को मिली, दरअस्ल चैलन पर डिबेट में शामिल पेनेलिस्ट एक दूसरे पर हाथापाई करने लगे। हाथापाई करने वालों में मुस्लिम पर्सनलॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना एजाज अरशद कासमी भी शामिल थे। या यूं कहिये कि यह हाथापाई एजाज अरशद कासमी के साथ ही हुई। हुआ कुछ यूं कि बरेली की निदा खान के खिलाफ बरेली शहर के एक इमाम ने फतवा दिया है कि निदा खान को इस्लाम से खारिज किया जा रहा है, इमाम ने इतना ही नहीं बल्कि यहां तक कहा है कि अगर निदा खान मर जाये तो उसके जनाजे में भी शामिल न हुआ जाए, बल्कि उसके अपने कब्रस्तान में दफ्न भी नही किया जाये। इसी को लेकर टीवी चैनल पर बहस चल रही थी। इस बहस में अंबर जैदी और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनलॉ बोर्ड के सदस्य मुफ्ती एजाज अरशद कासमी, एक सुप्रिम कोर्ट की वकील फरहा फैज़ मौजूद थीं, पहले तो मौलाना एजाज अरशद कासमी की निदा खान से बहस हुई जिसके बाद निदा खान लाईव प्रसारण में रोने लगीं, उसके बाद सुप्रिम कोर्ट की वकील फरहा फैज़ मौलाना पर हमलावर हुईं, और दोनों में तू तू मैं मैं शुरू हो गई, इसी बीच फरहा ने मौलाना एजाज कासमी को अपशब्द कहते हुए थप्पड़ जड़ दिया, जिसके बाद मौलाना ने भी प्रतिक्रिया स्वरूप थप्पड़ जड़ दिया।



सख्त हुआ मुस्लिम पर्सनलॉ बोर्ड

इस घटना पर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने जांच कमेटी के गठन का ऐलान किया है, ये कमैटी एजाज़ अरशद के मामले की जांच करेगी और उनकी सदस्यता पर फैसला पर भी सुनाएगी, इसके बारे में जानकारी पर्सनल लॉ बोर्ड के ऑफिशियल ट्वीटर पर ट्वीट के द्वारा दी गई । ऑल मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य और लोकसभा सांसद बैरिस्टर असदउद्दीन ओवैसी ने इस घटना पर नाराज़गी का इज़हार करते हुए कहा कि ऐसे लोगों की तत्काल प्रभाव से बोर्ड से सदस्यता रद्द करनी चाहिए जो टीवी चैनलों पर बैठकर खुलेआम महिलाओं के साथ इस तरह का रवैय्या अख़्तियार करें। इसके लिये किसी भी प्रकार की जांच समिति की कोई ज़रूरत नही है।

Next Story
Share it