Top
Jan Shakti

योगी का 'रामराज्य' दलित शिक्षक ने ब्राहम्णवाद के खिलाफ की थी टिप्पणी, पुलिस ने BJP नेताओं के पकड़वा दिए पैर

योगी का रामराज्य दलित शिक्षक ने ब्राहम्णवाद के खिलाफ की थी टिप्पणी, पुलिस ने BJP नेताओं के पकड़वा दिए पैर
X

नई दिल्ली: योगी सरकार में दतिल उत्पीड़न लगातार बढ़ता जा रहा है, ताजा मामला अलीगढ़ का है जहां एक दलित शिक्षक से पुलिस ने भाजपा नेताओं के पैर छुवाए. पुलिस ने ऐसा इसलिए किया, क्योंकि उस शिक्षक ने सवर्णों के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी की थी. भाजपा नेता इसी बात को लेकर आग बबूला हो उठे और उन्होंने उस शिक्षक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी. प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला अलीगढ़ जिले का है. जिले की कोतवाली इगलास में शिवदान सिंह इंटर कॉलेज में सत्यवान सिंह अंग्रेजी पढाते हैं. उन्होंने फेसबुक पर मंगलवार को एक टिप्पणी की थी. जिससे कुछ स्थानीय भाजपा नेताओं की भावनाएं आहत हो उठीं. दीपेश दीक्षित नाम के शख्स ने सत्यवान के खिलाफ इस मामले में शिकायत दर्ज करा दी.


दारोगा ने दलित शिक्षक के खिलाफ शिकायत मिलने पर उन्हें थाने बुलाया, जहां पहले से ही कुछ भाजपा नेता मौजूद थे. पुलिस ने पहले तो शिक्षक से हाथ जुड़वाकर माफी मंगवाई गई. फिर उसके बाद सबके सामने पुलिस ने उससे भाजपा नेताओं के पैर छुवाए. पुलिस की इस शर्मनाक हरकत का किसी ने वीडियो बना लिया, और उसे सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया. वीडियो क्लिप के अनुसार, थाने में दोनों पक्षों को बुलाया गया था. सत्यवान ने इसमें पुलिसिया डंडे के जोर पर भाजपा मंडलाध्यक्ष कालीचरण गौड़ के पैर छुए थे और माफी मांगी थी. इस घटना पर दलित शिक्षक ने उस कहा, "मैंने कल फेसबुक पर एक टिप्पणी की थी, जो कि मेरी बहुत बड़ी गलती थी. मैंने भूल से उसे शेयर कर दिया था. मैं उसके लिए हाथ जोड़कर माफी मांगता हूं और खेद जताता हूं."


क्या था FB पोस्ट में?

जानकारी के लिये बता दे कि दलित शिक्षक सत्यवान सिंह ने अपनी पोस्ट में स्वामी विवेकानंद की किताब भारत का भविष्य का उल्लेख किया था. किताब के हवाले से उन्होंने लिखा- अगर देश के भविष्य का निर्माण करना है, तो ब्राह्मणवाद को पैरों तले कुचल डालो.

Next Story
Share it