Top
Janskati Samachar

A R Rahman Biography in Hindi | ए आर रहमान का जीवन परिचय

A R Rahman Biography in Hindi | अल्लाह रक्खा रहमान A R Rahman हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध संगीतकार हैं। सुरों के बादशाह रहमान ने हिंदी के अलावा अन्य कई भाषाओं की फिल्मों में भी संगीत दिया है। रहमान गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय हैं। रहमान ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्हें ब्रिटिश भारतीय फिल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए तीन ऑस्कर नामांकन हासिल हुआ है।

A R Rahman Biography in Hindi | ए आर रहमान का जीवन परिचय
X

A R Rahman Biography in Hindi | ए आर रहमान का जीवन परिचय

  • नाम अल्लाह रक्खा रहमान
  • जन्म 6 जनवरी 1967
  • जन्मस्थान चेन्नई
  • पिता आर के शेखर
  • माता करीमा बेग़म
  • पत्नी सायरा बानू
  • पुत्र ए आर अमीन
  • पुत्री रहीमा रहमान, खतीजा रहमान
  • व्यवसाय भारतीय संगीतकार
  • पुरस्कार अकादमी पुरस्कार
  • नागरिकता भारतीय

भारतीय संगीतकार ए आर रहमान (A R Rahman Biography in Hindi)

अल्लाह रक्खा रहमान A R Rahman हिन्दी फिल्मों के एक प्रसिद्ध संगीतकार हैं। सुरों के बादशाह रहमान ने हिंदी के अलावा अन्य कई भाषाओं की फिल्मों में भी संगीत दिया है। रहमान गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय हैं। रहमान ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्हें ब्रिटिश भारतीय फिल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए तीन ऑस्कर नामांकन हासिल हुआ है। इसी फिल्म के गीत 'जय हो' के लिए सर्वश्रेष्ठ साउंडट्रैक कंपाइलेशन और सर्वश्रेष्ठ फिल्मी गीत की श्रेणी में दो ग्रैमी पुरस्कार मिले।

प्रारंभिक जीवन (A R Rahman Early Life)

रहमान का जन्म 6 जनवरी 1967 को भारत के तमिलनाडु राज्य के चेन्नई शहर में एक मध्यम वर्गीय तमिल मुदलियार परीवार में हुआ। उनके पिता आर के शेखर तमिल और मलयालम फिल्मो के परिचालक और निर्माता थे। रहमान बचपन में हमेशा अपने पिता की सहायता करते थे। जब रहमान केवल 9 साल के ही थे, तभी उनके पिता की मृत्यु हो गयी थी, वे अपने पिता के वाद्ययंत्रों को किराये से देकर अपना घर चलाने लगे थे। जो बाद में उनकीं माता करीमा ने अपने हाथ मे ली थी।

रहमान एक बेहतर कीबोर्ड प्लेयर थे। साथ ही वे कई मौको पर बैंड का बंदोबस्त भी करा देते थे, जैसा की उन्होंने अपने बचपन के मित्र सिवामणि, जॉन अन्थोनी, सुरेश पेटर्स, जोजो और राजा के साथ मिलकर किया था और बाद में उन्होंने चेन्नई पर आधारीत रॉक ग्रुप नेमसिस एवेन्यु की भी स्थापना की थी। वे कीबोर्ड, पियानो, सिंथेसाइज़र, हारमोनियम और गिटार के महान ज्ञाता कहलाते है। A R Rahman Biography in Hindi

धर्म परिवर्तन (A R Rahman Religion Change)

1989 में रहमान की छोटी बहन काफी बीमार पड़ गई थी। सभी डॉक्टरों ने कह दिया कि उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं है। रहमान ने अपनी छोटी बहन के लिए मस्जिदों में दुआयें मांगी जल्द हीं उनकी दुआ रंग लाई और उनकी बहन चमत्कारिक रूप से स्वस्थ हो गई। इस चमत्कार को देख रहमान ने इस्लाम कबूल कर लिया।

वही दूसरी तरफ रहमान की बायोग्राफी 'द स्पिरिट ऑफ म्यूजिक' में यह बताया गया है कि कैसे एक ज्योतिषी के कहने पर उन्होंने नाम बदला। रहमान ने एक इंटरव्यू में बताया कि यह भी सच है कि उन्हें अपनी नाम अच्छा नहीं लगता था। एक दिन जब मेरी मां मेरी बहन की कुंडली दिखाने एक ज्योतिषी के पास गई तो उस हिंदू ज्योतिषी ने ही मुझे नाम बदलने की सलाह दी बस फिर क्या था मेरा नाम दिलीप कुमार से ए आर रहमान पड़ गया। ए आर इसलिए क्योंकि मेरी मां चाहती थी कि उसमें अल्ला रख्खा भी जोड़ा जाए।

शादी (A R Rahman Marriage)

ए आर रहमान की पत्नी का नाम सायरा बानो है। उनके तीन बच्चे हैं- खदीजा, रहीम और अमन। वे दक्षिण भारतीय अभिनेता राशिन रहमान के रिश्तेदार भी है। रहमान संगीतकार जी वी प्रकाश कुमार के चाचा हैं।

संगीत करियर (A R Rahman Carrier)

ए आर रहमान ने अपने शुरुआती कैरियर में कुछ टीवी विज्ञापन और धारावाहिकों में अपने संगीत को जिंगल्स के रूप में दिया। 1991 में रहमान ने अपना खुद का म्यूजिक रिकॉर्ड करना शुरु किया। उन्हें सबसे बड़ी कामयाबी 1992 में तब मिली जब सुप्रसिद्ध निर्देशक मणिरत्नम ने उन्हें अपनी फ़िल्म 'रोज़ा' का संगीत देने की पेशकश की।

रहमान ने अब तक 100 से भी अधिक गानों में अपना संगीत दिया है जो कि कई भाषाओ में है।रहमान के गानों की 200 करोड़ से भी अधिक रिकॉर्डिग बिक चुकी हैं। आज वे विश्व के टॉप टेन म्यूजिक कंपोजर्स में गिने जाते हैं। उन्होंने देश की आजादी की 50 वीं वर्ष पर 1997 में "वंदे मातरम्"‌ एलबम बनाया, जो जबर्दस्त सफल रहा।

भारत के निर्देशन में बनी एलबम "जन गण मन", जिसमें भारतीय शास्त्रीय संगीत से जुड़ी कई नामी हस्तियों ने सहयोग दिया उनका एक और महत्वपूर्ण काम था। उन्होंने स्वयं कई विज्ञापनों के जिंगल लिखे और उनका संगीत तैयार किया। उन्होंने जाने-माने कोरियोग्राफर प्रभु देवा और शोभना के साथ मिलकर तमिल सिनेमा के डांसरों का ग्रुप बनाया, जिसने माइकल जैक्सन के साथ मिलकर स्टेज कार्यक्रम दिए।

स्लमडॉग मिलियनेयर को छोड़कर रहमान ने हॉलीवुड फिल्मो में भी काफी पहचान बनाई है जिसमे 127 ऑवर और लॉर्ड ऑफ़ वॉर शामिल है। अंतरराष्ट्रिय सफलता के बावजूद रहमान ने दक्षिण भारतीय फिल्मो में गाना कभी नही छोड़ा। एयरटेल की प्रसिद्ध टोन को भी, संगीतकार रहमान ने ही गाया है, जो दुनिया की सबसे ज्यादा डाउनलोड की जाने वाली टोन बनी, जिसे 150 मिलियन से भी ज्यादा लोगो ने डाउनलोड किया था।

वे सिंथेसाइजर को कला और टेक्नोलॉजी का अद्भुत संगम मानते हैं। रहमान ने अब तक 100 से भी अधिक गानों में अपना संगीत दिया है जो कि कई भाषाओ में है। उनकी कुछ सर्वश्रेष्ठ फ़िल्मों में 'रोज़ा', 'बॉम्बे', 'दिल से', 'लगान', 'ताल', 'वन्दे मातरम' शामिल है। हाल की कुछ फ़िल्मों में 'जोधा अकबर', 'रंग दे बसंती', 'दिल्ली 6' एवं 'स्लमडॉग मिलेनियर' शामिल है। रहमान ने केवल भारतीय ही नहीं बल्कि विश्व के कई बड़े कलाकारों के साथ प्रशंसनीय संगीत दिया है।

पुरस्कार और सम्मान (A R Rahman Awards)

  • टाइम्स पत्रिका ने उन्हें 'मोजार्ट ऑफ मद्रास' की उपाधि दी।
  • 1995 में 'मॉरीशस नेशनल अवॉर्ड्स', 'मलेशियन अवॉर्ड्स'
  • चार बार संगीत के लिए 'राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता'।
  • फर्स्ट वेस्ट एंड प्रोडक्शन के लिए 'लारेंस ऑलीवर अवॉर्ड्स'।
  • 2000 में 'पद्मश्री' से सम्मानित।
  • 2006 में विश्व संगीत में योगदान के लिए 'स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी' से सम्मानित।
  • 6 बार 'तमिलनाडु स्टेट फ़िल्म अवॉर्ड' विजेता।
  • 14 बार 'फ़िल्मफेयर' विजेता।
  • रहमान 'गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड' से सम्मानित होने वाले पहले भारतीय हैं।
  • 13 बार 'फ़िल्म फेयर साउथ अवॉर्ड' विजेता।
  • 2009 में फ़िल्म स्लम डॉग मिलेनियर में उनके संगीत के लिए तीन ऑस्कर अवॉर्ड।
  • 2007 में लिम्का बुक ऑफ़ रिकॉर्ड रहमान को संगीत के क्षेत्र में सबसे प्रसिद्ध भारतीय का अवार्ड दिया गया।
  • 2010 में पद्म विभूषण से भी नवाजा गया है।
Next Story
Share it