Top
Janskati Samachar

Govinda Biography in Hindi | गोविंदा का जीवन परिचय

Govinda Biography in Hindi | गोविंदा बॉलीवुड के फेमस अभिनेता, फिल्म निर्माता और निदेशक हैं। वे पूर्व राजनीतिज्ञ में भी रहे हैं। उन्‍होंने लगभग हर शैली की फिल्‍मों में काम किया है। चाहे वह कॉमेडी हो, रोमांस हो, ड्रामा हो, एक्‍शन हो, कोई भावनात्‍मक किरदार हो, सभी में गोविंदा ने अपने अभिनय का लोहा मनवाया हैं।

Govinda Biography in Hindi | गोविंदा का जीवन परिचय
X

Govinda Biography in Hindi | गोविंदा का जीवन परिचय

  • वास्तविक नाम गोविंद अरुण आहूजा
  • उपनाम गोविंदा, ची ची और विरार
  • जन्मतिथि 21 दिसंबर 1963
  • जन्मस्थान विरार, महाराष्ट्र, भारत
  • पिता अरुण कुमार आहूजा (अभिनेता)
  • माता निर्मला आहूजा
  • पत्नी सुनीता आहूजा
  • पुत्र यशवर्धन आहूजा
  • पुत्री टीना आहूजा
  • व्यवसाय भारतीय फिल्म अभिनेता
  • नागरिकता भारतीय

अभिनेता गोविंदा (Govinda Biography in Hindi)

Govinda Biography in Hindi | गोविंदा बॉलीवुड के फेमस अभिनेता, फिल्म निर्माता और निदेशक हैं। वे पूर्व राजनीतिज्ञ में भी रहे हैं। उन्‍होंने लगभग हर शैली की फिल्‍मों में काम किया है। चाहे वह कॉमेडी हो, रोमांस हो, ड्रामा हो, एक्‍शन हो, कोई भावनात्‍मक किरदार हो, सभी में गोविंदा ने अपने अभिनय का लोहा मनवाया हैं। उन्होंने बेहतरीन अभिनय के लिए कई अवार्ड्स भी जीते हैं।

प्रारंभिक जीवन (Govinda Early Life)

गोविंदा आहूजा जी का जन्म 21 दिसंबर, 1963 को मुंबई के विरार में हुआ। उनके पिता भूतपूर्व अभिनेता अरुण कुमार और उनकी माता गायिका-अभिनेत्री निर्मला देवी है। उनका जन्म एक पंजाबी-सिंधी परिवार में हुआ था। अपने माता-पिता की छः संतानों में से गोविंदा सबसे छोटे है। उनका भाई कीर्ति कुमार एक अभिनेता, प्रोड्यूसर और डायरेक्टर है। उनकी बहन, कामिनी खन्ना एक राइटर, म्यूजिक डायरेक्टर और गायिका है।

शिक्षा (Govinda Education)

गोविंदा ने प्रारंभिक पढ़ाई मुंबई शहर से की थी। मुंबई के आना साहेब वर्तक कॉलेज वसई से कॉमर्स विषय में ग्रेजुएशन किया। और अच्छे नम्बर से ग्रेजुएशन पास किया है।

गोविंदा का निजी जीवन (Govinda Married Life & Family)

उन्होंने सुनीता आहूजा के साथ शादी कर ली। इससे उनके एक बेटा यशवर्धन आहूजा और बेटी टीना आहूजा हैं। एक समय गोविंदा रानी मुखर्जी से शादी की तयारी भी कर चुके थे। पर पत्नी की नाराजगी के वजह से अलग हो गए। टीना ने 2015 में आयी फिल्म 'सेकंड हैण्ड हसबंड' से बॉलीवुड में डेब्यू किया था। मनोरंजन के क्षेत्र में गोविंदा के 6 भतीजे और दो भांजीयाँ है। अभिनेता विनय आनंद, कृष्णा अभिषेक, आर्यन, अर्जुन सिंह, रागिनी खन्ना, अमित खन्ना, आरती सिंह और डायरेक्टर जनमेंद्र कुमार आहूजा।

गोविंदा के पिता अरुण अहुजा विभाजन से पहले पंजाब के गुजरांवाला में रहते थे. अनुभवी फिल्म निर्माता महबूब खान के कहने पर अरुण अहुजा मुंबई आ गए थे. 1937 में मुंबई आने के बाद महबूब खान ने उन्हें अपनी फिल्म एक ही रास्ता में अभिनय करने का अवसर दिया. गोविंदा की माता नजीम मुसलमान थीं. धर्म परिवर्तन करने के बाद उन्होंने अपना नाम निर्मला देवी रख लिया था. निर्मला देवी भी फिल्म अदाकारा थीं गोविंदा जब हिन्दी सिनेमा में आए उस समय का दौर एक्शन और रोमांस का था. उस समय कॉमेडी के क्षेत्र में कोई ऐसा हीरो नहीं था जो फिल्म में लीड रोल निभा सके.

गोविंदा के आगमन ने हिन्दी फिल्मों में हास्य-रस से भरपूर फिल्मों के दौर को फिर से अस्तित्व में ला दिया है ये कहना गलत नहीं होगा. गोविंदा ना सिर्फ कॉमेडी में बेहतरीन थे बल्कि डांस और ड्रामा में भी उनका कोई जवाब नहीं था. हीरो नंबर वन, राजा बाबू जैसी फिल्में आने वाले लंबे समय तक गोविंदा की मुस्कराती कलाकारी का नमूना बनकर रहेंगी. बॉलिवुड में आज बेशक गोविंदा को लोग समोसा के आलू की तरह मानते हों लेकिन एक समय था जब गोविंदा का मतलब हुआ करता था हिट फिल्में.

अपनी कॉमेडी और डांस स्टाइल से इन्होंने बॉलिवुड में एक नई अध्याय की शुरुआत की. जिस समय गोविंदा अभिनय की दुनिया में आए थे उस समय अधिकतर एक्शन फिल्मों की भरमार थी. ऐसे समय में गोविंदा ने लीक से हटकर कॉमेडियन रोल करने का साहस दिखाया और उसमें वह कामयाब भी हुए.

1980 के समय में, गोविंदा ने बहुत सी पारिवारिक, ड्रामा, एक्शन और रोमांस फिल्मे की। 80 के दशक में उन्होंने बॉलीवुड में एक्शन हीरो के रूप में अपनी पहचान बनायी और फिर 90 के दशक में उन्होंने अपनी पहचान एक हास्य अभिनेता के रूप में बनायी थी। एक समय में जब उनकी फिल्मो को लगातार असफलता मिल रही थी तब उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ फिर वापसी की और एक सुपरहिट फिल्म दी। आने वाले दशको में उन्होंने 1992 की फिल्म शोला और शबनम में NCC कैडेट की भूमिका निभाई थी, इस फिल्म में उन्होंने दिव्या भारती के साथ काम किया था।

लेकिन फिर सन 2000 में बॉक्स ऑफिस में बहुत सी फ्लॉप फिल्मे करने के बाद उन्होंने फिल्म अक्षय कुमार के साथ भागम भाग (2006), सलमान खान और कैटरीना कैफ के साथ पार्टनर (2007), लाइफ पार्टनर (2007), लाइफ पार्टनर (2009) जैसी बहुत सी सफल फिल्मे की। इसके बाद सन 2015 में उन्होंने जी-टीवी के डांस रियलिटी शो, डांस इंडिया डांस सुपर मॉम सीजन 2, मिथुन चक्रवर्ती की जगह पर जज की भूमिका भी निभाई थी।

५ जनवरी 1994 को खुद्दार फिल्म की शूटिंग के लिए स्टूडियो पर जाते समय गोविंदा के साथ एक दर्दनाक हादसा हुआ था। गोविंदा की कार दूसरी कार से टकरा गयी थी और इसकी वजह से उनके सिर में गंभीर चोट लग गयी थी। लेकिन फिर भी गोविंदा ने शूट करने से इन्कार नही किया बल्कि डॉक्टर को एकबार दिखाने के बाद उन्होंने आधी-रात तक काम किया था।

गोविंदा के करियर की शुरूआत फिल्‍म 'इल्‍जाम' से हुई थी जो बॉक्‍स आफिस पर सुपरहिट हुई थीा इसके बाद उन्‍होंने कई फिल्‍मों में काम किया और उनके काम की सभी ने सराहना कीा 1990 से 1999 के बीच का समय उनके लिए काफी अच्‍छा रहाा उनकी फिल्‍मों को और उनके अभिनय को आलोचकों और दर्शकों ने तो सराहा ही, इसके साथ ही साथ उन्‍हें बॉक्‍स आफिस पर भी सफलता मिलीा उन्‍होंने कई फिल्‍मों में दो किरदार निभाए हैं और फिल्‍म 'हद कर दी आपने' में तो उन्‍होंने हद ही कर दी जब ए‍क ही परिवार के 6 अलग अलग सदस्‍यों का किरदार भी उन्‍होंने खुद ही निभायाा उन्‍हें 'नं 1' का भी खिताब हासिल है क्‍योंकि उनकी 6 फिल्‍मों के नाम के अंत में 'नं 1' लगा हुआ हैा

उन्‍होंने लगभग अपने अपने समय के हर अभिनेताओं के साथ काम किया हैं उनकी डांसिंग स्किल्‍स की दुनिया दीवानी है और फिल्‍म इंडस्‍ट्री में वे एक अच्‍छे डांसर के भी रूप में मशहूर हैंा डांस के साथ चेहरे पर वैसा ही भाव रखने की कला में शायद ही कोई उनसे बेहतर हो 2004 में गोविंदा कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गये और इसके बाद लोकसभा चुनाव में मुंबई से उनकी नियुक्ती संसद भवन के सदस्य के रूप में की गयी थी। चुनाव में वे 50,000 वोटो से जीते थे।

चुनाव के समय में, उन्होंने बताया था की उनका एजेंडा प्रवास, स्वास्थ और ज्ञान है। प्रवास के क्षेत्र में उन्होंने बोरीवली-विरार में बहुत से कार्य किये है। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार उन्होंने स्वास्थ और शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत से कार्य किये थे। ठाणे जिल्हा कलेक्टर ने एक इंटरव्यू में कहाँ था की, गोविंदा ने अपने "लोकल एरिया डेवलपमेंट फण्ड" से वसई और विरार में पिने के पानी की समस्या को दूर करने के लिए पैसे दिए थे।

गोविंदा को अपने करियर में एक बुरे दौर से भी गुजरना पड़ा। गोविंदा का कहना है कि उन्होंने अपने करियर के बुरे दौर में यह महसूस किया कि इंडस्ट्री में लोग सिर्फ उन्हीं पर ध्यान देते हैं जो कामयाब होता हैं। गोविंदा ने कहा कि उनके वह काफी मुश्किल दौर था क्योंकि इंस्डट्री कुछ लोगों के हाथ में है। यह सब कुछ आपकी फिल्मों की रिलीज और और कामयाबी पर निर्भर करता है। गोविंदा ने कहा कि सक्सेस होगा तो कमाल होगा, तभी लोग आपसे बात करेंगे। गोविंदा ने यह भी माना कि उन्हें राजनीति ज्वाइन नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि वह खुद क्षेत्र में स्थापित करने में असफल रहे।

गोविंदा ने बड़े पर्दे के साथ-साथ छोटे पर्दे पर भी काम किया है. उन्होंने 2001 में सोनी टीवी के शो 'जीतो छप्पर फाड़ के' में होस्ट की भूमिका निभाई. इसके बाद गोविंदा ने 'कौन बनेगा करोड़पति' में भी काम किया. गोविंदा 2015 में जी टीवी के पाॅपुलर डांस रिएल्टी शो 'डांस इंडिया डांस सुपर माॅम्स सीजन 2' में जज बने.

गोविंदा को उनकी प्रशंसनीय अदाकारी के लिए समय समय पर कई पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है. गोविंदा को 1994 में फिल्म 'आंखें' के लिए फिल्मफेयर अवाॅर्ड के लिए नामांकित किया गया. इसके बाद उन्हें 'कुली नं 1' के लिए भी नामांकन मिला. 1997 में फिल्म 'साजन चले ससुराल' के लिए उन्हें फिल्मफेयर की तरफ से पुरस्कार दिया गया.

1998 में 'दीवाना मस्ताना' और 1999 में 'बड़े मियां छोटे मियां' के लिए भी नामांकन मिला. फिल्म 'हसीना मान जाएगी' के लिए 2000 में इन्हें फिल्मफेयर के बेस्ट काॅमेडियन का अवाॅर्ड दिया गया. इसके बाद 2001 में 'शिकारी' और 'कुंवारा' के लिए वहीं 2002 में 'जोड़ी नं 1' और 'क्यूंकि मैं झूठ नहीं बोलता' और 2003 में 'अंखियों से गोली मारे' के लिए भी फिल्मफेयर की तरफ से नामांकन मिला.

गोविंदा राजनीतिक करियर (Govinda Political Career) :

गोविंदा भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के सदस्य की नियुक्ती 2004 में 14 वे लोकसभा चुनाव में भारत के महाराष्ट्र के उत्तर मुंबई क्षेत्र से संसद के सदस्य के रूप में नियुक्ती की गयी थी। लोकसभा चुनाव में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के राम नाइक को पराजीत किया था। चुनाव के समय में, उन्होंने बताया था की उनका एजेंडा प्रवास, स्वास्थ और ज्ञान है। प्रवास के क्षेत्र में उन्होंने बोरीवली-विरार में बहुत से कार्य किये है। अधिकारिक सूत्रों के अनुसार उन्होंने स्वास्थ और शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत से कार्य किये थे।

रोचक तथ्य :

• गोविंदा ने एक दर्शक संतोष राय को फिल्म मनी है तो हनी है के सेट पर चांटा मार दिया था। संतोष पर आरोप था कि वह फिल्म की क्रू में शामिल लड़कियों से बदतमीजी कर रहा था और गोविंदा द्वारा प्रार्थना करने के बाद भी वहां से नहीं गया। संतोष राय ने चांटे को लेकर एक केस मुंबई हाई कोर्ट ने लगाया जिसे रिजेक्ट कर दिया गया। बाद में यह केस सुप्रीम कोर्ट में भी दायर किया गया। दिसंबर 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने गोविंदा को माफी मांगने को कहा।

• फिल्म खुद्दार की शूटिंग के लिए जाते समय गोविंदा मरते मरते बचे। उनकी कार एक दूसरी कार से टकरा गई। उनके सिर पर गहरी चोट लगने और खून बहने के बावजूद उन्होंने शूटिंग रद्द नहीं की।

• सांसद के तौर पर गोविंदा को काफी आलोचना झेलनी पड़ी। उन पर इल्जाम लगे कि वह अपने क्षेत्र लोगों से मिलते नहीं और उनकी समस्याओं को नजरअंदाज करते हैं। खासतौर पर जुलाई 2005 की बारिश के दौरान जिसमें 450 लोगों की जान चली गई थी।

• गोविंदा का पहला जॉब एक खाद का विज्ञापन था। फिल्मों में उनका पहला मुख्य रोल उनके अंकल आनंद द्वारा निर्देशित फिल्म में था।

• गोविंदा ने अपनी दूसरी फिल्म लव 86 की शुटिंग जून 1985 में की और जुलाई मध्य तक पूरी 40 और फिल्में साइन कर लीं। गोविंदा अब तक बारह बार फिल्मफेयर के लिए नामांकित हो चुके हैं। वह एक स्पेशल फिल्मफेयर, बेस्ट कॉमेडियन केटेगरी में एक फिल्मफेयर और चार ज़ी सिने अवार्ड जीत चुके हैं।

• गोविंदा की पहली रिलीज फिल्म 'इल्जाम' थी जिसने बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचाया और साल 1986 की पांचवी हिट फिल्म बन गई. फिल्म का 'स्ट्रीट डांसर' वाला गीत उन दिनों सबकी जुंबा पर छा गया और रातों रात गोविंदा डांसिंग स्टार भी बन गए थे.

• गोविंदा ने डायरेक्टर डेविड धवन के साथ पहली बार फिल्म 'ताकतवर' में काम किया था, उसके बाद 90 के दशक में लगभग 17 फिल्मों में काम किया जिनमें 'स्वर्ग', 'शोला और शबनम', 'कुली नंबर 1', 'राजा बाबू', 'साजन चले ससुराल', 'बनारसी बाबू', 'दीवाना मस्ताना', 'हीरो नंबर 1', 'बड़े मियां छोटे मियां', 'हसीना मान जायेगी' और 'आंखें' जैसी फिल्में थी. अबतक वे तक़रीबन 165 हिंदी फिल्मे कर चुके है। बीबीसी न्यूज़ ऑनलाइन पोल में सर्वाधिक वोट पाने वाले की सूचि में वे दसवे स्थान पर थे।

• गोविंदा ने सुनीता जी से विवाह किया और उन्हें एक बेटी टीना आहूजा और एक बेटा यशवर्धन है. गोविंदा की बेटी टीना आहूजा ने भी फिल्म 'सेकंड हैंड हस्बैंड' से बॉलीवुड में कदम रखा.

Next Story
Share it