Top
Janskati Samachar

Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi | ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का जीवन परिचय

Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi | ईश्वर चंद्र विघासागर, भारतीय उपमहाद्वीप के एक बंगाली बहुज्ञ और बंगाल पुनर्जागरण के प्रमुख व्यक्ति थे। वे एक दार्शनिक, अकादमिक शिक्षक, लेखक, अनुवादक, मुद्रक, प्रकाशक, उद्यमी, सुधारक और परोपकारी व्यक्ति थे। बंगाली गघ को सरल और आधुनिक बनाने के उनके प्रयास महत्वपूर्ण थे। उन्होंने अंग्रेजों को विधवा पुनर्विवाह अधिनियम पारित करने के लिए भी मजबूर किया।

Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi
X

Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi | ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का जीवन परिचय

  • पूरा नाम ईश्वर चंद्र विद्यासागर
  • जन्म सितंबर 26, 1820
  • जन्मस्थान मिदनापुर, बंगाल
  • पिता ठाकुरदास बंदोपाध्याय
  • माता भगवती देवी
  • पत्नी राजलक्ष्मी देवी
  • पुत्र नारायण चंद्र
  • व्यवसाय अध्यापक, सामाजिक कार्यकर्ता
  • नागरिकता भारतीय

सामाजिक कार्यकर्ता ईश्वर चन्द्र विद्यासागर (Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi)

Ishwar Chandra Vidyasagar Biography in Hindi | ईश्वर चंद्र विघासागर, भारतीय उपमहाद्वीप के एक बंगाली बहुज्ञ और बंगाल पुनर्जागरण के प्रमुख व्यक्ति थे। वे एक दार्शनिक, अकादमिक शिक्षक, लेखक, अनुवादक, मुद्रक, प्रकाशक, उद्यमी, सुधारक और परोपकारी व्यक्ति थे। बंगाली गघ को सरल और आधुनिक बनाने के उनके प्रयास महत्वपूर्ण थे। उन्होंने अंग्रेजों को विधवा पुनर्विवाह अधिनियम पारित करने के लिए भी मजबूर किया।

ईश्वर चंद्र का प्रारंभिक जीवन (Ishwar Chandra Vidyasagar Early Life)

ईश्वर चंद्र का जन्म 26 सितंबर 1820 को बंगाल में मिदनापुर जिले के बिरसिंघा गाँव में हुआ था। उनके पिता ठाकुरदास बंद्योपाध्याय और माँ भगवती देवी बहुत धार्मिक व्यक्ति थे। परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए ईश्वर को बुनियादी संसाधनों की कमी के बीच अपना बचपन बिताना पड़ा। इस सब के बीच ईश्वर चंद्र एक प्रतिभाशाली लड़का था और वह अपनी पढ़ाई में अपनी दृढ़ता पर ध्यान केंद्रित करता था।

शिक्षा (Education)

उन्होंने कलकत्ता के संस्कृत कॉलेज, में दाखिला लिया जहां उन्होंने संस्कृत व्याकरण, साहित्य, वेदांत, स्मृति और खगोल विज्ञान का अध्ययन किया और 1841 में अपनी पढ़ाई पूरी की और इसी बीच उन्होंने 1839 में अपनी लॉ की परीक्षा भी पूरी की। संस्कृत और दर्शनशास्त्र में अपने गहन ज्ञान के कारण, उन्होंने संस्कृत कॉलेज से "विद्यासागर" शीर्षक प्राप्त किया।

ईश्वर चंद्र का व्यक्तिगत जीवन (Ishwar Chandra Vidyasagar Marriage Life)

1834 में जब वह 14 साल के थे, तब उन्होंने दीनामनी देवी से शादी कर ली। उनके एक बेटे, नारायण चंद्र थे। वह अपने घरवालों के संकुचित मानसिकता के कारण वे अपने परिवार से नाखुश थे और तब वह जमात जिले में 'नंदनकणान' गाँव में संथाल के साथ रहने के लिए चले गए।

ईश्वर चंद्र का प्रोफेशनल करियर (Ishwar Chandra Vidyasagar Professional Career)

  • 1841 में 21 वर्ष की आयु में ईश्वर चंद्र ने संस्कृत विभाग में हेड पंडित के रूप में फोर्ट विलियम कॉलेज में प्रवेश लिया। ईश्वर चन्द्र प्रतिभाशाली व्यक्ति थे, वह जल्द ही अंग्रेजी और हिंदी में कुशल हो गए।
  • 1846 में विद्यासागर ने फोर्ट विलियम कॉलेज छोड़ दिया और संस्कृत कॉलेज में 'सहायक सचिव' के रूप में शामिल हो गए लेकिन एक साल बाद 1847 में उन्होंने कॉलेज के सचिव रसोमॉय दत्ता के साथ गंभीर फेरबदल करते हुए प्रशासनिक बदलावों की सिफारिश की।
  • 7 मई, 1849 को बेथ्यून स्कूल, भारत में पहली स्थायी लड़कियों के स्कूल की स्थापना के लिए जॉन इलियट ड्रिंकवाटर बेथ्यून को अपना समर्थन दिया।
  • 1851 में संस्कृत कॉलेज के प्रधानाचार्य बने। 1855 में, उन्होंने अतिरिक्त प्रभार वाले स्कूलों के विशेष निरीक्षक के रूप में जिम्मेदारियों को संभाला और शिक्षा की गुणवत्ता की देखरेख के लिए बंगाल के सुदूर गांवों की यात्रा की।

शिक्षा प्रणाली में सुधार (Ishwar Chandra Vidyasagar Changes Education System)

जब ईश्वर चंद्र विद्यासागर निरीक्षक के पद पर थे, तब उन्होंने शिक्षा की दयनीय स्थिति को देखा और बंगाल के ग्रामीण क्षेत्र में उच्च साक्षरता दर देखी। शिक्षा की कमी के कारण बाल विवाह की परंपरा हर जगह थी। ईश्वर विद्यासागर ने महसूस किया कि केवल शिक्षा ही इस दयनीय स्थिति को बदल सकती है और समाज का उत्थान कर सकती है।

संकट की समाप्ति को ध्वस्त करने के लिए, उन्होंने लगभग बीस मॉडल स्कूल खोले और 1300 छात्रों को नामांकित किया। विद्यासागर ने शिक्षा के प्रसार के लिए लड़कियों के लिए 35 विशेष विद्यालय खोले।

सामाजिक कार्य (Ishwar Chandra Vidyasagar Social Work)

  • राजा राममोहन रॉय के बाद भारत के अनेक हिस्से के नवनिर्वाचित ज्योत प्रज्वलित करने वाले जो सुधारक थे। उनमे ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का कार्य अनमोल है। उनके कोशिशो की वजह से सरकार विधवाविवाह कानून किया, इतना नहीं तो बालविवाह को प्रतिबंधित करने वाला 'सिव्हिल मॅरेज एक्ट' ये कानून लागु होने के लिये ईश्वरचंद की कोशीश फायदेमंद रही।
  • धर्मशास्त्र की पढाई करके भारतीय समाज में हजारो सालोसे चली आ रही रूढी, भ्रामक समझ, धर्म के प्रति अज्ञानता इन जैसे दुर्गुणों पर उन्होंने प्रखरता से आलोचना की। उन्होंने कहा की विधवा विवाह को हिंदू धर्मशास्त्र में कोई निषेध नहीं है।
  • बंगाली भाषा में उन्होंने सामाजिक सुधारणा के संदर्भ में अच्छा लेखन किया। उनकी की राय थी की भारतीय समाज में बदलाव लाना होंगा तो ब्रिटिश सरकार ने समाज के हित के लिये सुधारणा को पोषक कानून कराने चाहिये।

ईश्वर चंद्र की किताब (Ishwar Chandra Vidyasagar Books)

  • बेताल पंचाबिंसती (1847)
  • बंगला-इतिहास (1848)
  • जीबनचरित (1850)
  • बोधाडॉय (1851)
  • उपकारामनिका (1851)
  • बिधाबा बिबाह बिषयक प्रोस्ताब
  • बोर्नो पोरिचय (1854)
  • कोठा माला (1856)
  • सितार बोनोबास (1860)

मृत्यु (Ishwar Chandra Vidyasagar Death)

अपनी सहनशीलता, सादगी तथा देशभक्ति के लिए प्रसिद्ध और एक शिक्षाशास्त्री के रूप में विशिष्ट योगदान करने वाले ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का निधन 29 जुलाई, 1891 को 70 वर्ष की आयु में कोलकाता में हुआ।

Next Story
Share it