Top
Janskati Samachar

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | भारतीय क्रिकेट (Indian Cricket) के सबसे सफलतम कप्तानों में से एक एमएस धोनी (MS Dhoni) का जन्म 7 जुलाई 1981 (MS Dhoni Birthday) को रांची, बिहार (अब झारखंड में) में हुआ था। धोनी 'माही' (Mahi) के नाम से भी काफी मशहूर है। धोनी को दुनिया का सबसे बेस्ट फिनिशर माना जाता है।

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी
X

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | महेंद्र सिंह धोनी की जीवनी

  • पूरा नाम महेंद्र सिंह धोनी
  • जन्म 7 जुलाई 1981
  • जन्मस्थान रांची, झारखण्ड
  • पिता पान सिंह
  • माता देवकी देवी
  • पत्नी साक्षी सिंह रावत
  • पुत्री जिवा धोनी
  • व्यवसाय भारतीय क्रिकेटर
  • पुरस्कार पद्म भूषण, पद्म श्री, राजीव गांधी खेल रत्न
  • नागरिकता/राष्ट्रीयता भारतीय

क्रिकेटर महेन्द्र सिंह धोनी(MS Dhoni Biography in Hindi)

Mahendra Singh Dhoni Biography in Hindi | महेन्द्र सिंह धोनी का नाम दुनियां भर के महान क्रिकेटरों में लिया जाता है। और आज महेन्द्र सिंह धोनी (Indian Cricket Captain MS Dhoni)एक प्रसिद्ध खिलाड़ी हैं। और वो भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान रहे चुके है, लेकिन क्रिकेटर बनने की ख्वाइश धोनी के लिए उतनी आसान नहीं थी। और एक साधारण इंसान से महान क्रिकेटर बनने के लिए बहुत ही संघर्ष करना पड़ा था। अपने क्रिकेट के हुनर से ही धोनी ने दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है।

प्रारंभिक जीवन (MS Dhoni Early Life)

महेन्द्र सिंह धोनी का जन्म (MS Dhoni Biirth) 7th जुलाई, 1981 को झारखंड के पास रांची में एक मध्यवर्गीय परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम पान सिंह था। और माता का नाम देवकी धोनी है। इनके बड़े भाई का नाम नरेंद्र सिंह धोनी और उनकी बहन का नाम जयंती था। कुछ समय के बाद उनके माता-पिता उत्तराखंड को छोड़कर रांची रहने चले गए, जहा उनके पिताजी कंपनी में जूनियर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट में काम करने लगे। महेन्द्र सिंह धोनी एक मध्यवर्गीय परिवार से थे। इसलिए उनका जीवन बहुत ही संघर्ष करते हुए बिता था।

शिक्षा (Education)

1981 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने डी.एवी जवाहर विद्या मंदिर स्कूल में अपनी शिक्षा प्राप्त की थी। और महेन्द्र सिंह धोनी ने अपनी आगे की पढ़ाई के लिए, सेट ज़ेवियर कॉलेज में दाखिला लिया था। लेकिन क्रिकेट में ज्यादा लगाव के कारण महेन्द्र सिंह धोनी ने अपनी पढ़ाई को बीच में ही छोड़ दी थी।

निजी जीवन (MS Dhoni Married Life)

2007 की साल में साक्षी बतौर देहरादून शिफ्ट हो गई। इसके बाद में महेन्द्र सिंह धोनी और साक्षी काफी समय तक एक दूसरे से नहीं मिल थे। लेकिन इन दोनों की मुलाकात कोलकाता में हुई थी। महेन्द्र सिंह धोनी की टीम कोलकाता के जिस होटल में रुकी हुई थी।

उसी होटल में साक्षी बतौर एक इंटर्न शिप में काम कर रही थी। और काफी समय के बाद उस होटल में उन दोनों की मुलाकात हुई। और उसके बाद काफी समय तक वे मिलते रहे। और कुछ साल के बाद उन दोनों ने शादी कर ली, और उनकी एक बेटी हैं, जिसका नाम जीवा रखा हे।

करियर (MS Dhoni Starting Career)

1998 की साल में क्रिकेट में करियर बनाने की शुरुआत महेन्द्र सिंह धोनी ने बिहार की अंडर-19 टीम में खेलकर की थी। उसके आलावा महेन्द्र सिंह धोनी ने रणजी ट्रॉफी, देवघर ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी भी खेला था। केन्या के भारत के दौर में शानदार प्रदर्शन से राष्ट्रीय टीम के चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया।

2001 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने कोलकाता में रेलवे के एक डिपार्टमेंट में टिकट कलेक्शन करते थे। लेकिन उनको इस नौकरी में मन नहीं लगता था। और इन्होंने इस नौकरी को छोड़ने का फैसला लिया। और अपने क्रिकेट मैच में ध्यान देना शुरू कर दिया।

उसके बाद में महेन्द्र सिंह धोनी का सिलेक्शन दिलीप ट्रॉफी के लिए हो गया था। लेकिन उनके सिलेक्शन की खबर समय पर नहीं मिल पाई, और इसी कारण धोनी इस ट्रॉफी में हिस्सा नहीं ले पाए।

2003 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने जमशेदपुर की टीम में क्रिकेट मैच खेला था। उसी समय बंगाल के पूर्व कप्तान प्रकाश पोद्दार ने उन्हें देखा था। उसके बाद उन्होंने महेन्द्र सिंह धोनी की अच्छे खेल ने की जानकारी राष्ट्रीय क्रिकेट एकेडमी को बताई थी। और इस तरह से धोनी का सिलेक्शन बिहार की अंडर-19 की टीम में हुआ था।

2004 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी का सिलेक्शन 'इंडिया की टीम में हुआ था। 'इंडिया की टीम में उन्हों ने अपना पहला क्रिकेट मैच विकेट कीपर के तौर पर खेला था। और जिम्बाबे टीम के विरुद्ध बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था।

महेन्द्र सिंह धोनी का अंतरराष्ट्रीय ओडीआई करियर (MS Dhoni ODI Career)

साल 2004 में महेन्द्र सिंह धोनी ने भारतीय टीम में पहला अंतर्राष्ट्रीय वन डे क्रिकेट मैच खेला था। और उन्हों ने अपना पहला ओ.डी.आई मैच बंग्लादेश की टीम विरुद्ध खेला था।

इसके बाद में महेन्द्र सिंह धोनी ने पाकिस्तान के सामने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया था। इस मैच में महेन्द्र सिंह धोनी ने कुल 148 रन बनाये थे। और वे पहले भारतीय क्रिकेटर बन गए। जिन्होंने इतने ज्यादा रन बनाए हों।

2005 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने जयपुर में श्रीलंका के सामने काफी अच्छा मैच खेला था। और 183 रन बनाये थे। उनके विकेट-कीपर के आंकड़ों में 246 कैच और 85 स्टंपिंग शामिल हैं।

2011 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने फाइनल वर्ल्ड कप में 79 गेंदों में 91 रन बनाये, जो भारत को विश्व चैम्पियन बनाने के लिए बहुत मददगार हुई। और उन्हें मैच का "मैन ऑफ़ द मैच" बनाया गया।

2013 की साल में चैम्पियन ट्राफी के फाइनल में जब भारत ने इंग्लेंड को पराजित किया था। तब उड़ उस समय महेन्द्र सिंह धोनी भारत को ट्राफी दिलाने वाले पहले कप्तान बन गये थे। और उन्हों ने अनेक ट्रॉफी जीती जैसे कि…

2007 में ICC World Twenty20

  • 2007-08 में CB सीरीज
  • 2010 में एशिया कप
  • 2011 में ICC क्रिकेट वर्ल्ड कप
  • 2013 ICC चैंपियंस ट्राफी

2014 में महेन्द्र सिंह धोनी ने क्रिकेट छोड़ने का फैसला लिया था। और उन्हों ने हमेशा नये प्लेयर को मौका दिया था। और आगे खेलने के लिए मदद करते थे। धोनी ने 2017 को भारतीय टीम और 20-20 टीम की कप्तानी छोड़ दी। और विराट कोहली भारत के नये कप्तान बने। महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने 60% से ज्यादा मैचों में जीत हासिल की है।

महेन्द्र सिंह धोनी ने भारत की टीम में कई रिकार्ड्स बनाये थे। उन्होंने भारत को एक दिवसीय और टेस्ट क्रिकेट मैच में काफी जीत दिलाई थी। और भारत को लगातार जीत दिलाते रहने वाले कप्तान थे।

महेन्द्र सिंह धोनी का टेस्ट मैच करियर (MS Dhoni Test Match Career)

2005 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी को भारत की क्रिकेट टीम में पहला क्रिकेट टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला था। और इन्होंने अपना पहला मैच श्रीलंका टीम के विरुद्ध खेला था।

2006 की साल में पाकिस्तान के सामने मैच खेलते हुए। महेन्द्र सिंह धोनी ने अपनी पहली टेस्ट सेंच्युरी लगाई थी। और उसी कारण क्रिकेट टेस्ट मैच में भारत को फॉलो-ऑन से बचने में मदद मिली थी।

2008 की साल में कप्तानी लेने के बाद महेन्द्र सिंह धोनी ने न्यूज़ीलैण्ड और वेस्टइंडीज के विर्रुद्ध अपनी टीम को जीत दिलाई थी। और साथ ही बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी 2008, 2010 और 2013 की साल में भी जीत दिलाई।

2009 की साल में महेन्द्र सिंह धोनी ने भारतीय टीम को टेस्ट रैंकिंग में पहले स्थान पर पहोचाया था। 2013 की साल में उनकी कप्तानी में 40 सालो बाद पहेली भारतीय टीम बनी जिसने ऑस्ट्रेलिया को टेस्ट मैच में हराया था। और महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना अंतिम टेस्ट मैच ऑस्ट्रलिया टीम के विरुद्ध खेला था।

महेंद्र सिंह धोनी टी-20 करियर (MS Dhoni T20 Career)

महेन्द्र सिंह धोनी ने अपना पहला T20 मैच दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था और अपने पहले T20 मैच में धोनी का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था। क्योंकि इस मैच में धोनी ने केवल 2 गेंदों में 0 रन पर आउट हो गए थे। जब की टीम इंडिया ने इस मैच में जीत हासिल की थी।

भारत के कप्तान बनने के बाद महेन्द्र सिंह धोनी ने 2007 में आयोजित आई.सी.सी विश्व T20 में भारतीय टीम को लीड किया था। और इस टूर्नामेंट में भारत ने जीत हासिल की थी।

महेन्द्र सिंह धोनी ने T20 कप जीतने के बाद उनको वन डे मैच और टेस्ट मैच की कप्तानी सोपि गई थी। और 2009 की साल में आई.सी.सी टेस्ट रैंकिंग में प्रथम स्थान हासिल कर लिया था। और महेन्द्र सिंह धोनी ने कप्तान रहते हुए, कई रिकॉर्ड भी अपने नाम किए थे।

महेंद्र सिंह धोनी का आईपीएल करियर (MS Dhoni IPL Career)

आईपीएल के पहले सीजन में धोनी को चेन्नई सुपर किंग्स ने 5 मिलियन अमरीकी डॉलर में खरीदा था। इनकी कप्तानी में रहते भारतीय टीम ने इस लीड के 2 सीजन जीते थे। इसके बाद में इन्होंने 2010 की साल में T20 की चैम्पियन लीड में भी अपनी टीम को विजय बनाया था।

चेन्नई सुपर किंग्स टीम पर 2 साल का बैन लगने के बाद इस टीम को आई.पी.एल की दूसरी टीम राइजिंग पुणे सुपरजायंट ने 1.9 मिलियन डॉलर में खरीद लिया था। उसके बाद महेन्द्र सिंह धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स टीम में रहकर मैच को खेला था।

चेन्नई सुपर किंग्स पर लगा बैन 2018 की साल में खत्म हो गया। और इस टीम ने फिर से महेन्द्र सिंह धोनी को अपनी टीम में शामिल कर लिया, और उस समय धोनी इस टीम का मार्गदर्शन कर रहे थे। MS Dhoni Biography in Hindi

विवाद (MS Dhoni Controversy)

2007 के साल में कॉलोनी में रहने वाली जनताने महेन्द्र सिंह धोनी के खिलाफ रांची क्षेत्रीय विकास प्राधिकरण में एक फ़रियाद दर्ज करवाई थी। जिसमें धोनी पर प्रतिदिन करीब 15 हजार लीटर पानी बर्बाद करने का आरोप लगाया था। जिसके बाद ये मामला झारखंड उच्च न्यायालय तक भी पहुंच गया था।

लेकिन जब इस मामले की जांच की गई, तो पता चला कि कॉलोनी की जनता ने किसी गलत जानकारी के आधार पर ये फरियाद दर्ज करवाई है। उसके बाद महेन्द्र सिंह धोनी के सामने इन जनता ने उनसे माफी मांगी थी।

2013 की साल मे महेन्द्र सिंह धोनी पर आई.पी.एल मैच में फिक्सिंग करने पर आरोप लगा था। लेकिन उन पर आरोप साबित नहीं हो पाया था। MS Dhoni Biography in Hindi

महेन्द्र सिंह धोनी के जीवन पर एक फिल्म भी बनाई गई थी। जिसका नाम "एम एस धोनी, अनटोल्ड स्टोरी" था। और ये फिल्म 2016 की साल में रिलीज हुई थी। इस फिल्म में धोनी की पूरी जिंदगी के बारे में दिखाया गया था। और इनकी भूमिका को अभिनेता सुशांत सिंह राजूपत द्वारा निभाया गया था।

पुरस्कार और सन्मान (MS Dhoni The Awards)

  • 2006 में एम टी.वी. तथा पेप्सी का 'यूथ आइकॉन' चुने गए।
    • 2007 में राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड।
  • 2008 में ICC ODI प्लेयर ऑफ़ द इयर अवार्ड।
  • 2009 में भारत सरकार द्वारा पद्म श्री अवार्ड।
  • 2018 में भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण अवार्ड।
  • इंडियन आर्मी का भी सम्मान पद।

महेन्द्र सिंह धोनी ने एयर इंडिया की नौकरी से इस्तीफा देने के बाद इंडिया सीमेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में उपाध्यक्ष का पद पर भी काम किया था। इंडिया सीमेंट कंपनी जो आईपीएल टीम चेन्नई सुपर किंग्स की मालिक है। और पहले IPL सीजन से महेन्द्र सिंह धोनी उस टीम के कप्तान रहे चुके है। धोनी इंडियन सुपर लीग टीम चेंनैयीं FC के मालक भी है।

Next Story
Share it