Top
Janskati Samachar

Prithvi Shaw Biography in hindi | पृथ्वी शॉ का जीवन परिचय

Prithvi Shaw Biography: पृथ्वी पंकज शॉ भारत के उभरते हुए युवा भारतीय क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 2018 अंडर -19 विश्व कप में अंडर -19 भारतीय क्रिकेट टीम का नेतृत्व किया था. उन्होंने बेहद कम उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था और रिजवी स्प्रिंगफील्ड हाई स्कूल के कप्तान थे.

Prithvi Shaw Biography, Family and Achievements in Hindi
X

Prithvi Shaw Biography, Family and Achievements in Hindi

पृथ्वी शॉ की जीवनी जन्म, जन्मस्थान, माता-पिता के नाम, परिवार, करियर और उपलब्धियाँ | Prithvi Shaw Biography, Family and Achievements in Hindi

Prithvi Shaw Biography: पृथ्वी पंकज शॉ भारत के उभरते हुए युवा भारतीय क्रिकेटर हैं, जिन्होंने 2018 अंडर -19 विश्व कप में अंडर -19 भारतीय क्रिकेट टीम का नेतृत्व किया था. उन्होंने बेहद कम उम्र से ही क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया था और रिजवी स्प्रिंगफील्ड हाई स्कूल के कप्तान थे. उन्हें स्कूल क्रिकेट में विश्व रिकॉर्ड स्कोर तोड़ने पर एक विलक्षण माना जाता था. वह केवल चौदह वर्ष के थे जब उन्होंने यह उपलब्धि हासिल की और जल्द ही शहर की चर्चा बन गई और अक्सर उनकी तुलना सचिन तेंदुलकर से की जाने लगी. वह जल्द ही भारत अंडर -19 टीम में शामिल हो गए, जिसने यूथ एशिया कप जीता. 2017 में उन्होंने शतक बनाकर अपने रणजी ट्रॉफी की शुरुआत की. उन्होंने इसके बाद दिलीप ट्रॉफी में शतक बनाया. उन्हें 2018 में विश्व कप के लिए भारत के अंडर 19 टीम का कप्तान बनाया गया. जिसके बाद टीम को न्यूजीलैंड में जीत दिलाने में सफल रहे. उन्हें भारतीय क्रिकेट में अगली होनहार प्रतिभा माना जाता है, जिसके आगे उनका भविष्य उज्जवल है.

  1. नाम(Name) पृथ्वी शॉ
  2. जन्मदिन (Date of Birth) 9 नवंबर 1999
  3. आयु (Age) 20 वर्ष
  4. राष्ट्रीयता (Citizenship) भारतीय
  5. जन्म स्थान (Birth Place) विरार, मुंबई
  6. प्रसिद्ध (Known For) भारतीय क्रिकेट टीम के सदस्य (मैन)
  7. मूल निवासी (Home Town) बिहार का गया जिला
  8. पृथ्वी शॉ का जन्म और परिवार (Prithvi Shaw Birth and Family)

पृथ्वी शॉ का जन्म 9 नवंबर, 1999 को मुंबई के विरार में हुआ था. वह सिर्फ चार साल का था जब उन्होंने अपनी माँ को खो दिया. पिता पिता पंकज शॉ मूल रूप से बिहार के गया जिले के मानपुर गांव के रहने वाले हैं. माँ के गुजरने के बाद शॉ ने क्रिकेट पर ध्यान देना शुरू किया. उनके पिता पंकज शॉ एक कपड़ा व्यापारी, ने अपने बेटे के करियर पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया और अपना व्यवसाय बंद कर दिया. यह जोड़ी AAP एंटरटेनमेंट द्वारा एक उदार अनुबंध की मदद से मुंबई के सांताक्रूज़ में चली गई. वह वर्तमान में रिज़वी कॉलेज ऑफ़ आर्ट्स, साइंस एंड कॉमर्स से स्नातक की पढ़ाई कर रहे हैं. पृथ्वी के दादा अशोक शॉ और दादी रामदुलारी बिहार के गया जिले में मानपुर, शिवचरन लेन में रहते हैं, वह अपने घर में ही बालाजी कटपीस नाम से कपड़े की दुकान चलाते हैं.

पृथ्वी शॉ का करियर (Prithvi Shaw Career)

पृथ्वी शॉ के क्रिकेटिंग कार्यकाल को बहुत पहले ही शुरू दिया गया था जब उन्हें अपने पिता द्वारा विरार में एक क्रिकेट अकादमी में दाखिला दिया गया था. बाद में वह मुंबई में मिडिल इनकम ग्रुप (MIG) क्रिकेट क्लब का हिस्सा बन गए और अपने कौशल को सुधारना जारी रखा. 2010 में, खेल प्रबंधन कंपनी, AAP एंटरटेनमेंट ने उन्हें प्रति वर्ष 300,000 रुपये का अनुबंध देने की पेशकश की, ताकि वे अपने करियर को बनाए रख सकें और मुंबई का रुख कर सकें. बाद में 2012 में उन्हें मैनचेस्टर में चेडल हुल्मे स्कूल की तीन महीने की यात्रा के लिए चुना गया. इसका उद्देश्य विभिन्न परिस्थितियों में अध्ययन और प्रशिक्षण था. उन्होंने सीखा कि कैसे खुद को अंग्रेजी मौसम के अनुरूप बनाना है और यहां तक ​​कि ग्लॉस्टरशायर की दूसरी टीम का भी प्रतिनिधित्व किया है. उन्हें जूलियन वुड क्रिकेट अकादमी और ब्रैडफील्ड कॉलेज द्वारा क्रिकेट/व्यक्तित्व विकास कार्यक्रम में भाग लेने के लिए भी आमंत्रित किया गया था. वह कई बार इंग्लैंड का दौरा कर चुके हैं और विभिन्न लीगों के लिए खेल चुके हैं.

2013 में उन्होंने स्थानीय सुर्खियाँ बनाईं जब उन्होंने स्कूल क्रिकेट में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड तोड़ा. इंटर-स्कूल प्रतियोगिता में, वह रिजवी स्प्रिंगफील्ड स्कूल के कप्तान थे और हैरिस शील्ड के लिए सेंट फ्रांसिस डी'एस्सी स्कूल के खिलाफ खेले. उन्होंने मैच में 330 गेंदों पर 546 रन बनाए. उन्हें जल्द ही आगामी विजय मर्चेंट ट्रॉफी के लिए मुंबई के लिए अंडर -16 कप्तान बनाया गया.

उन्होंने जनवरी 2017 में तमिलनाडु के खिलाफ रणजी ट्रॉफी श्रृंखला में प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया. उन्होंने दूसरी पारी में शतक बनाया और अपनी टीम को जीत तक पहुंचाया. सितंबर 2017 में, उन्होंने दिलीप ट्रॉफी की शुरुआत पर शतक बनाया और ऐसा करने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए. यह रिकॉर्ड पहले सचिन तेंदुलकर के पास था. इसके बाद पृथ्वी शॉ को 2018 विश्व कप के लिए अंडर -19 भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया. अंडर -19 भारतीय टीम ने फरवरी 2018 में उनकी कप्तानी में विश्व कप जीता. 2018 में उन्हें आईपीएल की नीलामी में शामिल किया गया और उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स ने 187,500 डॉलर में खरीदा था. उन्होंने एक मल्टीयर प्रायोजन सौदा हासिल किया और वर्तमान में मुंबई स्थित मार्केटिंग स्पोर्ट्स फर्म बेसलाइन वेंचर्स द्वारा प्रबंधित किया जाता है.

राहुल द्रविड़ हैं शॉ के कोच (Prithvi Shaw coach)

शॉ को भारत क्रिकेट टीम के महान बल्लेबाज रहे राहुल द्रविड़ द्वारा ट्रेनिंग दी जा रही है. राहुल द्रविड शॉ के कोच बन उनकी मदद कर रहे हैं. अंडर-19 एशिया कप में शॉ भारतीय टीम के खिलाड़ी थे और उस वक्त राहुल द्रविड़ टीम के कोच की भूमिका निभा रहे थे. शॉ को और बेहतरीन खिलाड़ी बनाने के लिए राहुल द्रविड़ खासा मेहनत कर रहे हैं.

पृथ्वी शॉ से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें (Prithvi Shaw Important Point)

शॉ हैं अंडर -19 टीम के कप्तान (Prithvi Shaw under 19)

पृथ्वी शॉ अभी भारत की अंडर-19 टीम की अगुआई कर रहे हैं, इनकी कप्तानी में अभी तक भारत ने तीनों मैच जीत लिए हैं. इन्होंने पहले मैच में ही ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 94 रन बनाए थे, मात्र 4 रन से चूकने के बाद 16 जनवरी को हुए मैच में इन्होंने नाबाद 57 रन बनाए, जिसकी बदौलत भारत ने पापुआ न्यू गिनी के खिलाफ 10 विकेट से जीत अपने नाम कर ली.

डेब्यू कर बनाया शतक (Prithvi Shaw debut)

रणजी ट्रॉफी और दिलीप ट्रॉफी में डेब्यू कर शतक बनाने वाले खिलाड़ियों की सूची में पृथ्वी शॉ का छठवां स्थान हैं. शॉ से पहले केवल पांच ही खिलाड़ियों के नाम ये रिकॉर्ड दर्ज हैं.

लंबा सफर तय कर जाते थे अभ्यास के लिए (Prithvi Shaw practice)

अपने खेल का अभ्यास करने के लिए शॉ रोजना अपने पिता के साथ ट्रेन में डेढ घंटे का सफर तय किया करते थे. शॉ को अपने अभ्यास के लिए विरार से बांद्रा तक जाना होता था. वहीं इनकी यहीं मेहनत रंग लाई और पृथ्वी आज एक जाने माने खिलाड़ी बन गए हैं.

सचिन के बेटे के साथ खेलते थे (Prithvi Shaw and Arjun Tendulkar)

मध्य आय समूह (एमआईजी) क्रिकेट क्लब के लिए खेलने वाले शॉ की टीम में सचिन तेंदुलकर के पुत्र अर्जुन तेंदुलकर भी शामिल थे. ये दोनों एक ही टीम के सदस्य थे.

शॉ को मिले पुरस्कार (Award received by Prithvi shaw)

शॉ के द्वारा खेले गए मैच में उनके प्रर्देशन को देखते हुए उनकी तरफ हर किसी ने की है. वहीं सचिन तेंदुलकर ने भी शॉ की काफी तारीफ की है और उन्होंने भी उम्मीद है की शॉ आगे चलकर भारतीय क्रिकेट टीम का नाम ओर रोशन करेंगे. सचिन के द्वारा की गई शॉ की ये तारीफ शॉ के लिए किसी इनाम से कम नहीं है. हालांकि साल 2013 में सचिन तेंदुलकर ने शॉ को एक पुरस्कार देकर सम्मानित भी किया था.

आईपीएल में पृथ्वी शॉ (Shaw name for IPL Auction)

पृथ्वी शॉ 2018 से आईपीएल टीम में शामिल है. इस साल 2020 के आईपीएल मैच में पृथ्वी को दिल्ली कैपिटल्स टीम द्वारा 1.2 करोड़ में ख़रीदा गया है. पृथ्वी एक उभरते कलाकार है, जो छोटी उम्र में ही क्रिकेट में नाम काम चूका है.

Next Story
Share it