Top
Janskati Samachar

गीता मुखर्जी जीवन परिचय | Geeta Mukherjee Biography in Hindi

गीता का जनम 8 जनवरी 1924 को पश्चिमबंगाल मे हुआ था | मुखर्जी ने आशूतोष कॉलेज, कलकत्ता से बैंचलर ऑफ आर्टस इन बंगाली लिटरेचर पूरा किाय था | उन्होंने 8 नवंबर 1942 को विश्वानाथ मुखर्जी से शादी कि थी | दस दंपति का एक बेटा भी है | उसक नाम भागवत जजन है |

गीता मुखर्जी जीवन परिचय | Geeta Mukherjee Biography in Hindi
X

नाम : गीता मुखर्जी

जनम तिथी : 8 जनवरी 1924

स्थान : जेसोर, बंगाल प्रांत, ब्रिटीश भारत

व्यावसाय : राजनितीज्ञ, सामाजिक कार्यकर्ता लेखक

मृत्‍यु : 4 मार्च 2000 आयू 76 वर्षे

पति : बिस्वनाथ मूखर्जी

प्रांरभिक जीवनी :

गीता मुखर्जी का जनम 8 जनवरी 1924 को पश्चिमबंगाल मे हुआ था | गीता मुखर्जी ने आशूतोष कॉलेज, कलकत्ता से बैंचलर ऑफ आर्टस इन बंगाली लिटरेचर पूरा किाय था | उन्होंने 8 नवंबर 1942 को विश्वानाथ मुखर्जी से शादी कि थी | दस दंपति का एक बेटा भी है | उसक नाम भागवत जजन है |

दिल का दौरा पडने से मूखर्ज का 4 मार्च 2000 को निधन हो गया था | मूत्यू के समय वह 76 वर्षे कि थी | भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री अटलबिहारी वाजपेयी ने अपने शोक संदेश मे कहा श्रीमती मूखर्जी ने दूढ संकल्पा और समर्पण का परिचर दिया था | वह महिला सशक्तीकरण का एक चमकदार उदाहरण थी | उनका जीवन भविष्या कि पढियों विशेष रुप से महिलाओं के लिए प्रेरणा बना रहेगा |

कार्य :

गीता मुखर्जी एक भारतीय राजनेता और समाजिक कार्यकर्ता था | 1967 से 1977 तक पंसकूरा पूरवा से चार बार विधायक रही है | संसद के अध्याक्ष के रुप मे वह 1980 से पंसकूरा निर्वाचन क्षेत्र से सात बार चूनी गई थी | 2000 मे वह भारतीय राजया पश्चिम बंगाल मे भारतीय कम्यूनिस्टा पार्टी सीपीआय के उम्मीदवार थे |

वह भारतीय कम्यूनिस्टा पाटी कि महिला शाखा, नेशनल फेरडरेशन ऑफ इंडियन वुमेन कि अध्याक्ष भी रही है | उन्होंने भारत मे संसदीय चूनावों मे महिलाओं के लिए 1/3rd आरक्षण कि विधायिका कि मांग का नेतृत्वा किया था | वह 1947 से 1951 तक बंगाल प्रांती छात्र महासंध के सचिव रही थी |

वह 1980 मे 7 वी लोकसभा के लिए चुनी गई और 1980-84 के दौरान उन्होंने सेवा कि थी : 1) सदस्या अनूसचित जाति और अनूसचित जनजातति के कल्याण पर समिती 2) सदस्या सार्वजनिक उपक्रमो का समिती 3) सदस्या आपराधिक कानून पर संयूक्ता समिती संशोधन विधेयक 1980|

1981 के बाद से वह भारतीय कम्यूनिस्टा पाटी कि राष्ट्रीय कार्यकारी समिती कि सदस्या थी | वह ग्रामीण श्रम पर राष्ट्रीय आयेाग, महिला आयोग, राष्ट्रीय बाल बोर्ड प्रेस परिषद और राष्ट्रीय महिला महासंघ कि उपाध्याक्ष क अलावा महिला अंतर्राष्ट्रीय लोकतांत्रिक महासंघ बर्लिन कि सचिवालय सदस्या भी थी |

पुस्तके :

1) भारत उपकथा भारत के लोककथाएँ|

2) कोटेदार रवींद्रनाथ बच्चो के लिए टैगोर|

3) हेत कथा|

4) ब्रूनो अपित्ज|

5) नेकेड टू बंगाली का अनूवाद|

Next Story
Share it