Top
Janskati Samachar

जिग्नेश मेवाणी जीवन परिचय | Jignesh Mevani Biography in Hindi

जिग्नेश मेवाणी गुजरात, एक भारतीय राजनीतिज्ञ है। वह वडगाम निर्वाचन क्षेत्र में गुजरात विधान सभा के एक सदस्य है। उन्होंने एक सामाजिक कार्यकर्ता और वकील के रूप में काम किया है। उन्होंने 2016 में गुजरात में भारतीय जाति वर्गीकरण में 'नीच जातियों' के रूप में माने जाते दलितों के हितों के लिए नेतृत्व किया था।

जिग्नेश मेवाणी जीवन परिचय | Jignesh Mevani Biography in Hindi
X

जिग्नेश मेवाणी गुजरात, एक भारतीय राजनीतिज्ञ है। वह वडगाम निर्वाचन क्षेत्र में गुजरात विधान सभा के एक सदस्य है। उन्होंने एक सामाजिक कार्यकर्ता और वकील के रूप में काम किया है। उन्होंने 2016 में गुजरात में भारतीय जाति वर्गीकरण में 'नीच जातियों' के रूप में माने जाते दलितों के हितों के लिए नेतृत्व किया था।

मेवाणी 11 दिसंबर, 1982 में अहमदाबाद, गुजरात.में पैदा हुआ था।उनका परिवार मिऊ जो फैजाबाद जिला में एक गाँव है, का मूल निवासी है। उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाईअहमदाबाद में स्वास्तिक विद्यालय और विश्व विद्यालय मधिय्म्क शाला में की। उन्होंने एच के आर्ट्स कॉलेज, अहमदाबाद से अंग्रेजी साहित्य में कला स्नातक 2003 में की। 2004 में,उन्होंने पत्रकारिता और जन संचार में डिप्लोमा की। 2004 से 2007 तकअभियान, गुजराती पत्रिका में एक रिपोर्टर के रूप में सेवा की। 2013 में, उन्होंने डी. टी. लॉ कॉलेज, अहमदाबाद से कानून में स्नातक प्राप्त की।

जिग्नेश ने मॉस कम्युनिकेशन और कानून की पढाई की है। वे पत्रकार भी रह चुके है। उन्होंने मुंबई के एक अख़बार में नौकरी भी की है। पेशे से वकील जिग्नेश की साहित्य में विशेष रूचि है। वेह अहमदाबाद के दलित बहुल क्षेत्र मेघानी नगर में रहते है। दलित समाज की जो जरूरतें है उसे पूरा करने के लिए उनके पास उर्जा है। मेवानी फ्लूएंस इंग्लिश, हिंदी और गुजराती बोलते है। उन्होने दिल्ली के JNU के छात्रों के संगर्ष में भी शिरकत की है।

ह्यूमन राईट एक्टिविस्ट मुकुल सिन्हा के "जन संगर्ष मंच" को भी जिग्नेश ने ज्वाइन किया था। इस दौरान उन्होंने दंगा पीड़ितों और वर्कर यूनियन के लिएय लड़ाई लड़ी थी। बाद में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता बने।

पॉलिटिक्स में उनका जीवन :

मेवानी उस वक्त चर्चा में आये थे जब ऊना में गोरक्षा के नाम पर दलितों की पिटाई हुई थी। उस हिंसा के विरुद्ध आंदोलन की अगुवाई मेवानी ने ही की थी।

जिग्नेश मेवानी बायोग्राफी

मेहसाणा जिले में जन्मे जिग्नेश 'आजादी कूच आंदोलन' चला चुके है। जिसमे उन्होंने लगभग 20 हजार दलितों को एक साथ मरे जानवर न उठाने और मैला न ढोने की शपथ दिलाई थी। मेवानी ने कहा था की दलित अब सरकार से अपने लिए दुसरे काम की बात करेंगे।

इसके अलावा वे 'दलित अस्मिता यात्रा' भी निकाल चुके है। दुसरे युवा नेताओं की तरह मेवानी के पास घुमने के लिए बड़ी कार नहीं है। लेकिन उनके पास मेहनत, लग्न और उर्जा है। ऐसी उर्जा जो दलित समाज को समानता और न्याय दिला सके।

सक्रियता

2016 गुजरात दलित अशांति

गुजरात के सौराष्ट्र इलाके के उना गांव में दलित लोगों पर हमला होने के बाद, गाय संरक्षण समूह के सदस्यों ने दावा किया कि गुजरात भर में विरोध प्रदर्शन हुआ। जिग्नेश मेवानी ने अहमदाबाद से उना तक दलित अस्मिता यात्रा की थी, जो 15 अगस्त 2016 को खत्म हुआ था और दलित महिलाओं सहित कुछ 20,000 दलितों ने इस में भाग लिया था, जिन्होंने गोरों के शव हटाने के अपने पारंपरिक नौकरियों को छोड़ने की प्रतिज्ञा ली थी। उन्होंने दलितों के उत्थान के लिए भूमि की मांग की।

राजनीति

वर्ष 2017 में, गुजरात विधानसभा चुनाव में, मेवाणी ने वडगाम निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ने का फैसला किया। उन्होंने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी का समर्थन करने की घोषणा की।

18 दिसंबर 2017 को, उन्होंने वडगाम निर्वाचन क्षेत्र से, गुजरात विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की।

विवाद

वर्ष 2017 में, गुजरात विधानसभा चुनाव में अपने अभियान के दौरान, एक वीडियो सामने आई, जिसमें उन्होंने कथित रूप से धार्मिक नारे लगाए और जब उन्होंने मौजूदा भीड़ से कहा कि वह "अल्लाह हु अकबर" का उच्चारण करे, तो भीड़ ने जवाब दिया, "मोदी, मोदी"।

20 दिसंबर 2017 को, उन्होंने एक विवादास्पद बयान दिया जिसमें उन्होंने अपना सुझाव दिया कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को राजनीति से रिटायर हो जाना चाहिए और "हिमालय चले जाना चाहिए।

रोचक जानकारियाँ

  • मेवाणी का जन्म मेयू गांव, जिला मेहसाणा में एक दलित परिवार में हुआ।
  • वह एक अधिवक्ता (वकील) हैं, और साथ में एक सामाजिक कार्यकर्ता भी है।
  • वह उना दलित अत्याचार लड़त समिति के संयोजक है, जो गुजरात में दलित लोगों के लिए कार्य करती है।
  • अगस्त 2016 में, उन्होंने एक विशाल रैली का आयोजन किया, जिसमें दलित लोगों ने संकल्प लिया की वह मवेशियों के शव और नाली साफ नहीं करेंगे। इस रैली में करीब 20,000 दलितों ने हिस्सा लिया था। जिग्‍नेश मेवाणी रैली
  • वर्ष 2017 में, गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान, मेवाणी, हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर ने गुजरात से अपनी राजनीति शुरू की। "
  • वर्ष 2017 में, गुजरात विधान सभा के लिए चुने जाने के बाद, उन्होंने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी की, जिसमें उन्होंने कथित रूप से उन्हें (नरेंद्र मोदी) एक मानसिक रूप से पुराना व्यक्ति बताया जिसे राजनीति से रिटायर हो जाना चाहिए, और हिमालय में जा कर आश्रय लेना चाहिए।
Next Story
Share it