Top
Jan Shakti

बड़ी खबर: विधानसभा में कांग्रेस और भाजपा विधायकों के बीच हुई हाथापाई, जानिए फिर क्या हुआ

बड़ी खबर: विधानसभा में कांग्रेस और भाजपा विधायकों के बीच हुई हाथापाई, जानिए फिर क्या हुआ
X

अक्सर हमारे देश में राजनीति के अलग अलग तस्वीरें देखने को मिलती हैं। इतने लंबे इतिहास में भारतीय राजनीति के कई आयाम देखने को मिली है। सियासत में राजनेताओं को ऐसी मर्यादाएं पार करते देखा गया है कि कभी कभी ये सोच पाना भी मुश्किल हो जाता है कि ये लोग एक सभ्य समाज का ही हिस्सा है।लेकिन कहने की बात है कि इस तरह के वाक्या यहां देखने को मिलते रहते हैं। बदलते वक्त के साथ ही भारतीय राजनीति के अंदर कई बदलाव देखने को मिले हैं। अब हाल ही का एक हैरान कर देने वाला किस्सा सुन लें जिसे जानकर खुद आप भी अपनी कानों पर यकीन नहीं कर पाएंगे। यह मामला गुजरात की विधानसभा में लोकतंत्र की मर्यादा को इस तरह से तार तार करने का है, कि लोकतंत्र के रक्षक भी खुद को शर्मसार होता हुआ महसूस करेंगे। यह पूरा मामला उस दौरान हुआ जब दो बड़ी पार्टियों के नेता, कांग्रेस और बीजेपी के नेता की आपस में भिड़ंत हो गई। दोनों नेताओं की यह आपसी बहस इतनी बढ़ गई कि पूरा वाक्या एक बड़ी घटना में बदल गया।


गुजरात की विधानसभा में कांग्रेस पार्टी के विधायक प्रताप दूधत ने बीजेपी दल के विधायक जगदीश पांचाल पर आग बबूला होकर बेल्ट से हमला कर दिया। इस घटना के बाद से ही नियमों का उल्लघंन करता देख विधानसभा से एक विधायक को निलंबित भी कर दिया गया है। गौर करने वाली बात है कि गुजरात विधानसभा में हुआ यह हंगामा उस समय सामने आया जब इससे एक दिन पहले ही तेलंगाना विधानसभा में कांग्रेस विधायकों द्वारा हंगामा किए जाने पर उन्हें निष्कासित कर दिया गया था। आपको बता दें कि यह मामला सामने आने के बाद तुरंत इस पर कार्यवाई करते हुए, कांग्रेस एमएलए के. वेंकट रेड्डी और एसए. संपथ कुमार को निष्कासित विधानसभा से कर दिया गया है।



जबकि वहां मौजूद 11 अन्य विधायकों को मौजूदा बजट सत्र से बाहर कर दिया गया। जिस मुताबिक जानकारी सामने आई है तो बता दें कि गुजरात विधानशभा में कांग्रेस विधायकों ने बजट सत्र की शुरुआत में ही राज्यपाल के अभिभाषण के दौरान हंगामा करना शुरु कर दिया था, जिसके बाद उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए यह कदम उठाया गया।सोचने वाली बात है जहां से किसी जनता के लिए नियम व कानून बनाए जाते हैं। देश को व किसी भी राज्य को चलाया जाता है वहां के सदस्य इस तरह का व्यवहार करते हैं और अपनी पार्टी के मोह में इतना खो जाते हैं उनके लिए यह तय कर पाना ही मुश्किल हो जाता है सही क्या है और गलत क्या है। आपको बता दें कि इस तरह के हंगामे होना संसद में कोई नई बात नहीं विरोधी पार्टियां एक दूसरे को नीचा दिखाने के लिए इस तरह की हरकतें करते रहते हैं।

Next Story
Share it