Janskati Samachar

महापरिनिर्वाण दिवस: पढ़िए समाज सुधारक Dr. B. R. Ambedkar के अमूल्य विचार

समाज सुधारक, संविधान निर्माता भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीम राव अंबेडकर जी की आज पुण्यतिथि है। 6 दिसंबर को पूरा देश हर साल बाबा साहेब डॉ भीम राव आंबेडकर जी के महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाता है।

महापरिनिर्वाण दिवस: पढ़िए समाज सुधारक Dr. B. R. Ambedkar के अमूल्य विचार
X

Dr. B. R. Ambedkar: समाज सुधारक, संविधान निर्माता भारत रत्न बाबा साहेब डॉ भीम राव अंबेडकर (Dr. B. R. Ambedkar) जी की आज पुण्यतिथि है। 6 दिसंबर को पूरा देश हर साल बाबा साहेब डॉ भीम राव आंबेडकर जी के महापरिनिर्वाण दिवस के रूप में मनाता है। बाबा साहेब का पूरा जीवन संघर्ष में बीता और उन्होंने देश में समानता लाने के लिए हर संभव संघर्ष किया।

बाबा साहेब (Dr. B. R. Ambedkar) का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव महु में हुआ था। महार जाति में जन्मे दलितों के मसीहा ने दलितों को सामाजिक और आर्थिक समानता दिलाने के लिए आजीवन संघर्ष किया। हिन्दू धर्म में फैली कुरीतियों, छुआछूत और भेदवाद से तंग आकर बाबा साहेब ने अपने लाखों समर्थकों के साथ 14 अक्टूबर 1956 को नागपूर स्थित दीक्षा भूमि में बौद्ध धर्म अपना लिया था। 6 दिसंबर 1956 को बाबा साहेब ने नई दिल्ली स्थित अपने आवास में अंतिम सांस ली और हमेशा के लिए अमर हो गए।

समाज को जागरुक करने वाले बाबा साहेब Dr. B. R. Ambedkar के 11 अनमोल विचार:

  1. कानून और व्यवस्था राजनीतिक शरीर की दवा है और जब राजनीतिक शरीर बीमार पड़े तो दवा जरूर दी जानी चाहिए।
  2. एक महान आदमी एक प्रतिष्ठित आदमी से इस तरह से अलग होता है कि वह समाज का नौकर बनने को तैयार रहता है।
  3. मैं ऐसे धर्म को मानता हूं, जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाए।
  4. हर व्यक्ति जो मिलकर 'एक देश दूसरे देश पर शासन नहीं कर सकता' के सिद्धान्त को दोहराता है उसे ये भी स्वीकार करना चाहिए कि एक वर्ग दूसरे वर्ग पर शासन नहीं कर सकता।
  5. इतिहास बताता है कि जहां नैतिकता और अर्थशास्त्र के बीच संघर्ष होता है, वहां जीत हमेशा अर्थशास्त्र की होती है। निहित स्वार्थों को तब तक स्वेच्छा से नहीं छोड़ा गया है, जब तक कि मजबूर करने के लिए पर्याप्त बल न लगाया गया हो।
  6. बुद्धि का विकास मानव के अस्तित्व का अंतिम लक्ष्य होना चाहिए।
  7. समानता एक कल्पना हो सकती है, लेकिन फिर भी इसे एक गवर्निंग सिद्धांत रूप में स्वीकार करना होगा।
  8. हिन्दू धर्म में विवेक, कारण और स्वतंत्र सोच के विकास के लिए कोई गुंजाइश नहीं है।
  9. जब तक आप सामाजिक स्वतंत्रता नहीं हासिल कर लेते, कानून आपको जो भी स्वतंत्रता देता है, वो आपके किसी काम की नहीं।
  10. यदि हम एक संयुक्त एकीकृत आधुनिक भारत चाहते हैं तो सभी धर्मों के शास्त्रों की संप्रभुता का अंत होना चाहिए।
  11. यदि नई दुनिया पुरानी दुनिया से भिन्न है तो नई दुनिया को पुरानी दुनिया से अधिक धर्म की जरूरत है।
Next Story
Share it