Top
Janskati Samachar

बंगाल में उत्पादित ऑक्सीजन को बंगाल की जनता से छीनकर दूसरे राज्यों को किया गया सप्लाई, ममता ने मोदी को लिखा पत्र

ममता ने मोदी से कहा, कई निजी इकाइयां करना चाहती हैं मदद, इसलिए टैक्स में छूट मिलना है ज़रूरी, स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे को मजबूत करने की भी की मांग, बंगाल में ऑक्सीजन की बढ़ने वाली संभावित मांग की आपूर्ति करने के लिए भी कहा

बंगाल में उत्पादित ऑक्सीजन को बंगाल की जनता से छीनकर दूसरे राज्यों को किया गया सप्लाई, ममता ने मोदी को लिखा पत्र
X

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी को बीते चार दिनों में तीसरी मर्तबा पत्र लिखा है। ममता बनर्जी ने मोदी सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है कि बंगाल में उत्पादित ऑक्सीजन को केंद्र सरकार ने बंगाल की जनता को मुहैया कराने के बजाय दूसरे राज्यों को सप्लाई कर दी। ममता ने मोदी से कहा है कि अब जल्द ही बंगाल में ऑक्सीजन की मांग बढ़ने वाली है। इसलिए केंद्र सरकार को बंगाल में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाने पद ध्यान देना चाहिए।

ममता ने मोदी से कहा है कि आने वाले एक हफ्ते में बंगाल में ऑक्सीजन की मांग बढ़ने वाली है। ममता ने मोदी को लिखे पत्र में कहा कि पहले ही बंगाल में प्रति दिन ऑक्सीजन की मांग 470 टन हो गई थी। अब अगले दस दिनों के भीतर प्रतिदिन ऑक्सीजन की मांग 550 मीट्रिक टन हो जाएगी। इसलिए मोदी सरकार को अब बंगाल की जनता के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ानी चाहिए।

सीएम पद की शपथ लेने के बाद से ही ममता बनर्जी एक्शन मोड में हैं। बीते चार दिनों में उन्होंने तीसरी बार प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखा है। चुनावी परिणाम के दिन ही ममता ने कहा था कि उनकी प्राथमिकता कोरोना महामारी से लड़ना है। लिहाज़ा उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिख कर ऑक्सीजन सहित तमाम ज़रूरी स्वास्थ्य उपकरणों पर छूट देने के लिए कहा है।

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखे पत्र में कहा कि कई ऐसे व्यक्ति, संगठन तथा निजी इकाइयां हैं जो राज्य की सहायता करना चाहती हैं। इसलिए ज़रूरी है कि उन्हें तमाम ज़रूरी स्वास्थ्य उपकरणों में टैक्स में छूट मिले। ममता ने मोदी से ऐसे उपकरणों में जीएसटी तथा सीमा शुल्क में राहत प्रदान करने की मांग की है। इसके साथ ही ममता ने देश भर के स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे को भी दुरुस्त करने की मांग की है, ताकि लोगों को कोरोना से राहत मिल सके।

Next Story
Share it