Janskati Samachar

Dalit Lives Matter: पार्टी में दलित युवक से टच हुआ खाना, ऊंची जाति के युवकों कर दी हत्या

दलित युवक को दावत के बाद साफ़ सफाई के लिए बुलाया गया था। तभी खाना छूने की वजह से नशे में धुत्त दो सवर्ण जाति के लोगों ने जातिगत टिप्पणी की और गालियां देते हुए उसे पीटना शुरू कर दिया। जिस कारण दलित युवक की मौत हो गयी। आरोपियों के नाम भूरा सोनी और संतोष पाल बताये जा रहे हैं।

dalit Youth Beaten To Death For Touching Food At Party In Madhya Pradesh
X

Dalit Lives Matter: पार्टी में दलित युवक से टच हुआ खाना, ऊंची जाति के युवकों कर दी हत्या

जनशक्ति: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल(Bhopal) से करीब 450 किलोमीटर दूर छतरपुर(Chatarpur) में एक दलित युवक की पीट पीट कर हत्या कर दी गई। यह क्षेत्र उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) की सीमा से सटा हुआ है और बुंदेलखंड(Bundelkhand) इलाके में आता है। यहां दलित युवक एक कार्यक्रम में साफ़ सफाई के लिए आया था जिस दौरान वहां रखा खाना छूने की कीमत उसे अपनी जान से चुकानी पड़ी। मृतक युवक का नाम देवराज अनुरागी बताया जा रहा है जिसकी उम्र करीब 25 वर्ष थी।

दलित युवक को दावत के बाद साफ़ सफाई के लिए बुलाया गया था। तभी खाना छूने की वजह से नशे में धुत्त दो सवर्ण जाति के लोगों ने जातिगत टिप्पणी की और गालियां देते हुए उसे पीटना शुरू कर दिया। जिस कारण दलित युवक की मौत हो गयी। आरोपियों के नाम भूरा सोनी और संतोष पाल बताये जा रहे हैं।

नवभारत टाइम्स की एक ख़बर के अनुसार छत्तरपुर जिले के गौरिहार थाना प्रभारी जसवंत सिंह राजपूत ने बताया है कि 'अनुरागी इस कार्यक्रम में जब खुद खाने के लिए गया तब आरोपी सोनी और पाल ने उसे गाली गलौज और पीटना शुरु कर दिया।' टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक अन्य ख़बर के मुताबिक़ छतरपुर के एसपी सचिन शर्मा का कहना है 'आरोपी भूरा सोनी और संतोष पाल हत्या के बाद से ही फरार हैं लेकिन उनपर हत्या और एससी एसटी एक्ट के अंतर्गत मामला दर्ज हो चुका है।वह दोनों जल्द ही पकड़े जायेंगे।'

लगभग पूरे देश में दलितों पर हो रहे अत्याचार थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। सरकार के तमाम दावों और वादों के बीच यह घटना बहुत शर्मनाक है। स्वतंत्र भारत 74 साल बाद भी दलित सुरक्षित नहीं है। कभी जातिगत टिप्पणी कर उन्हें बेइज़्ज़त किया जाता है तो कभी डरा धमकाकर उनकी आवाज़ दबाने की कोशिश की जाती है। जाति हमारे देश में कोरोना वायरस से भी बड़ी बिमारी का रूप ले चुकी है जो कई सदियों से न जाने कितने निर्दोषों की जान ले चुकी है।

Next Story
Share it