Janskati Samachar

किसान आंदोलन: तेजस्वी यादव समेत 18 नेताओं पर FIR, किसानों के समर्थन में प्रदर्शन करने पर कार्रवाई

दरअसल, तेजस्वी यादव के नेतृत्व में राजद और कांग्रेस ने शनिवार की सुबह गांधी मैदान किसानों के समर्थन को लेकर धरने पर बैठ गए। कोरोना का हवाला देते हुए नेताओं को प्रदर्शन करने की इजाजत प्रशासन की तरफ से नहीं दी गई थी।

FIR on Tejashwi Yadav, action on demonstration in support of farmers
X

जनशक्ति: राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। आज तक की खबर के मुताबिक तेजस्वी यादव सरीखे कुल 18 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। इन नेताओं पर आरोप है कि कोविड-19 महामारी के दौरान इन लोगों ने बिना इजाजत के गांधी मैदान के बाहर किसानों के मुद्दे को लेकर धरना प्रदर्शन किया। ये एफआईआर पटना पुलिस ने दर्ज की है।

दरअसल, तेजस्वी यादव के नेतृत्व में राजद और कांग्रेस ने शनिवार की सुबह गांधी मैदान किसानों के समर्थन को लेकर धरने पर बैठ गए। कोरोना का हवाला देते हुए नेताओं को प्रदर्शन करने की इजाजत प्रशासन की तरफ से नहीं दी गई थी। जिसके बाद तेजस्वी समेत अन्य नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। आज तक के मुताबिक इसमें विधायक आलोक मेहता, रामानंद यादव, पूर्व मंत्री श्याम रजक, रमई राम, पूर्व विधायक शक्ति सिंह यादव. आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा समेत अन्य के नाम शामिल हैं। इन सभी के खिलाफ धारा 145, 188, 279, 269 और महामारी एक्ट के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।


प्रदर्शन के दौरान तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर भी हमला बोला था और कहा था कि पटना में गोडसे पधारे हुए हैं। आगे तेजस्वी ने किसानों के प्रदर्शन को समर्थन देते हुए कहा था कि एमएसपी की जहां तक बात है तो किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलना चाहिए। सरकार की तरफ से एमएसपी का जिक्र ना होने का मतलब है कि कृषि क्षेत्रे निजी हाथों में बेचा जा रहा है और इसकी निजीकरण किया जा रहा है। तेजस्वी यह भी कहा था कि अगर एमएसपी नहीं होगी तो किसानों को दबाया जाएगा। हमारी मांग है कि मंडी व्यवस्था कायम हो और किसानों को उचित दाम मिले. एग्रीकल्चर सेक्टर निजी हाथों में नहीं जाना चाहिए।

Next Story
Share it