Top
Janskati Samachar

उत्तर प्रदेश: पंचायत चुनाव में मौत का तांडव, बिछी 6 की लाशें, 3 की हालत गंभीर, मचा बावल

Pratapgarh Hooch Treagedy: गांव के एक प्रधान प्रत्याशी द्वारा रैली का आयोजन किया गया था. प्रधानी के दावेदार द्वारा अपने समर्थकों को जमकर घटिया किस्म की मिलावटी शराब भी बांटी गई थी, जिसका सेवन करने के बाद ग्रामीणों की हालत बिगड़ने लगी.

उत्तर प्रदेश: पंचायत चुनाव में मौत का तांडव, बिछी 6 की लाशें, 3 की हालत गंभीर, मचा बावल
X

प्रतापगढ़. उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जनपद में जहरीली शराब (Hooch Tragedy) का कहर जारी है. बुधवार को पंचायत चुनाव (Panchayat Chunav) रैली में एक प्रधान प्रत्याशी द्वारा बांटी गई जहरीली शराब पीने से अब तक दो सगे भाई समेत 6 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि तीन की हालत गंभीर बनी हुई है. मामला उदयपुर थाना के कटरिया गांव का है, जहां जहरीली शराब परोसी गई थी. जहरीली शराब प्रकरण में एडीजी जोन प्रयागराज प्रेम प्रकाश बुधवार की दोपहर प्रतापगढ़ पहुंचे. एडीजी कटरिया गांव भी और पूरे गांव का दौरा करते हुए मृतक के परिजनों से भी मुलाकात की. साथ ही एडीजी प्रेम प्रकाश ने शराब माफियाओं के खिलाफ कठोर कार्रवाई का परिजनों को आश्वासन भी दिया.

जानकारी के मुताबिक, गांव के एक प्रधान प्रत्याशी द्वारा रैली का आयोजन किया गया था. प्रधानी के दावेदार द्वारा अपने समर्थकों को जमकर घटिया किस्म की मिलावटी शराब भी बांटी गयी थी, जिसका सेवन करने के बाद ग्रामीणों की हालत बिगड़ने लगी. वही दो मृतक पड़ोसी गांव के भी है. मिलावटी शराब ने कहर बरपाया तो एसओ, आबकारी इंस्पेक्टर समेत 4 पर निलंबन की कार्रवाई भी की गई.

15 दिन पहले भी जहरीली शराब पीने से हुई थी मौत

गौरतलब है कि प्रतापगढ़ में जहरीली शराब कांड के कुछ दिन बाद एक बार फिर मामला सामने आने के बाद जिला-प्रशासन सकते में है. गुरुवार को उदयपुर एसओ राकेश कुमार प्रजापति, आबकारी इंस्पेक्टर लालगंज प्रभुनारायण, आबकारी सिपाही लक्ष्मीकांत, हल्का लेखपाल संजय यादव को निलंबित कर दिया गया, जबकि शासन ने पूरे मामले की रिपोर्ट भी आला अफसरों से तलब की है. 15 दिन पहले संग्रामगढ़ इलाके में हुए जहरीली शराब कांड मामले में आबकारी इंस्पेक्टर, नवाबगंज एसओ, समेत 7 कर्मचारियों पर निलंबन की गाज गिरी थी.

इन लोगों की हुई मौत

उदयपुर थाना के कटरिया गांव निवासी प्रदीप और दिलीप की मिलावटी शराब पीने से मौत हो गई, जबकि यह दोनों सगे भाई हैं. प्रदीप के मामा सिद्धनाथ की भी मौत हो गई. राजकुमार, किशुन पासी, राममिलन की भी मौत हो गयी है, जबकि 3 व्यक्ति शराब पीने से गंभीर रूप से बीमार है, जिनका इलाज अस्पताल में चल रहा है.

प्रधानी चुनाव के दावेदार की तलाश में दबिश

वहीं, पुलिस पूछताछ में यह मामला प्रकाश में आया है कि गांव के एक प्रधान द्वारा मंगलवार को छोटी रैली निकाली गई थी. जिसमें अपने समर्थकों को दावेदार ने शराब पीने के लिए दिया था, जिसके सेवन से इन सभी की मौत हो गई है.

Next Story
Share it