Janskati Samachar

सपा के विरोध के सामने झुक गया पूर्वोत्तर रेलवे, टॉयलेट के टाइल्स पर लगवाया सफेद पेंट, रंग को लेकर था विरोध

पूर्वोत्तर रेलवे (NE Railway) के ललित नारायण मिश्र अस्पताल के सामने बने टॉयलेट (Toilet) (यूरीनल) की टाइल्स के रंग को लेकर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने ऐतराज जताया और इसे पार्टी के झंडे का अपमान बता दिया.

सपा के विरोध के सामने झुक गया पूर्वोत्तर रेलवे, टॉयलेट के टाइल्स पर लगवाया सफेद पेंट, रंग को लेकर था विरोध
X

जनशक्ति डेस्क: पूर्वोत्तर रेलवे (NE Railway) के ललित नारायण मिश्र अस्पताल के सामने बने टॉयलेट (Toilet) (यूरीनल) की टाइल्स के रंग को लेकर समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने ऐतराज जताया और इसे पार्टी के झंडे का अपमान बता दिया. इसके बाद बवाल बच गया. मामले में रेलवे की तरफ से भी ट्वीट कर सफाई दी गई. लेकिन विवाद नहीं थमा. न्यूज 18 ने इस खबर को प्रमुखता से दिखाया, जिसके बाद रेलवे ने इस यूरीनल के कलर को बदलने का निर्णय लिया है. यूरीनल के टाइल्स पर सपेद पेंट करा दिया गया है. टाइल्स पर सफेद पेंट कर रहे मजदूरों का कहना है कि उन्हे रेलवे के इंजीनियरों ने इस पर सफेद पेंट लगाने को कहा है. किसी भी सियासी बयानबाजी से बचने के लिए टाइल्स पर पेंट करा दिया गया है जबकि इस यूरिनल का निर्माण जून 2018 में हुआ था.

पूर्वोत्तर रेलवे के ललित नारायण मिश्र अस्पताल के सामने बने यूरीनल की टाइल्स को लाल और हरे रंग को लेकर आज सुबह के वक्त में समाजवादी पार्टी ने Tweet किया, "दूषित सोच रखने वाले सत्ताधीशों द्वारा राजनीतिक द्वेष के चलते गोरखपुर रेलवे अस्पताल में शौचालय की दीवारों को सपा के रंग में रंगना लोकतंत्र को कलंकित करने वाली शर्मनाक घटना! एक प्रमुख राजनीतिक पार्टी के ध्वज के रंगो का अपमान घोर निंदनीय. संज्ञान ले हो कार्रवाई, तत्काल बदला जाए रंग."

रेलवे ने ट्वीट कर दी थी सफाई

सपा के इस ट्वीट के बाद सियासत तेज होने लगी. इस पर पूर्वोत्तर रेलवे ने ट्वीट किया, "स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत गोरखपुर रेलवे हॉस्पिटल के टॉयलेट में लगे यह टाइल्स वर्षो पुराने हैं. इन टाइल्स को लगाने का उद्देश्य बेहतर साफ सफाई सुनिश्चित करना है. इसका किसी भी राजनीतिक दल से कोई भी सम्बन्ध नहीं है. आइये साथ मिलकर स्वच्छ भारत मिशन में सहयोग करें."

सपा कार्यकर्ताओं ने विरोध में पोता काला पेंट

रेलवे की सफाई से भी सपा के कार्यकर्ता नहीं माने और कुछ उत्साही कार्यकर्ताओं ने टाइल्स पर काला पेंट पोत दिया. वहीं इस मामले में सपा के एक प्रतिनिधि मंडल ने पूर्वोत्तर रेलवे के एजीएम से मुलाकात कर उनसे टाइल्स को हटवाने और संबंधित अधिकारी पर कार्रवाई करने को लेकर ज्ञापन दिया. सपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि अगर रेलवे प्रशासन इस टाइल्स को नहीं हटाता है तो सपा आन्दोलन करने को मजबूर होगी.

Next Story
Share it