Top
Janskati Samachar

तेजस्वी की इन 5 ग़लतियों के कारण नीतीश बने सीएम

महागठबंधन को वोट लगभग एनडीए जितने ही मिलें लेकिन सीटें कम मिलीं...कांटे की टक्कर महागठबंधन के लिए जीत में बदल सकती थी अगर तेजस्वी यादव ने ये 5 गलतियां नहीं की होती..

Nitish becomes CM due to these 5 mistakes of Tejashwi
X

बिहार का चुनाव महागठबंधन जीत सकता था। लेकिन, ऐसा नहीं हो सका। इसके कई कारण हैं और इन कारणों के मूल में हैं आरजेडी नेता तेजस्वी यादव। हालांकि हमला सिर्फ राहुल गांधी और कांग्रेस पर हो रहा है तो इसकी वजह भी साफ है। कांग्रेस देश में बीजेपी की सबसे बड़ी राजनीतिक दुश्मन है और अक्सर राहुल गांधी ही निशाने पर होते हैं। वैसे भी, कांग्रेस को जो लोग हार का जिम्मेदार ठहरा रहे हैं उनमें मीडिया का एक धड़ा है तो दूसरे वे लोग हैं जो जीते हुए तबके की ओर खुद का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं। हार हो या जीत जिम्मेदारी गठबंधन के सभी घटक दलों की होती है और नेतृत्व करने वाले की जिम्मेदारी सबसे अधिक होती है।

जीत के मुहाने पर पहुंचाने का श्रेय भी तेजस्वी को

चुनाव नतीजों के लिए जिम्मेदार ठहराने से पहले तेजस्वी यादव को इस बात का श्रेय देना होगा कि उनकी ही बदौलत महागठबंधन इस स्थिति में आया कि उसने एनडीए को कांटे की टक्कर दी। एक तरह से जीत की स्थिति तक पहुंचाया।

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को 37.2 प्रतिशत वोट मिले हैं और सरकार बना रहे गठबंधन एनडीए को 37.3 प्रतिशत। वोट लगभग बराबर मिले हैं दोनों गठबंधनों को। वोटों के तौर पर यह फर्क महज 12 हजार 270 का है। एनडीए को 57 लाख 27 वोट मिले हैं जबकि महागठबंधन को 56 लाख 88 हजार 458 वोट मिले हैं। इतना करीबी चुनाव बिहार में कभी देखा नहीं गया था।

आरजेडी का दावा है कि 15 सीटों पर जितने बैलेट पेपर रद्द किए गये हैं उससे कम अंतर से हार-जीत हुई है। इसे प्रशासन से मिलीभगत के जरिए धांधली का वे नाम दे रहे हैं। अदालत का दरवाज भी खटखटाने जा रहे हैं। अगर यह बात सच साबित होती है तो आज जिस एनडीए को जीता हुआ बताया जा रहा है कल उसे हारा हुआ और इसी तरह आज जिस महागठबंधन को हारा हुआ कहा जा रहा है उसे कल जीता हुआ कहा जा सकता है। मगर, अदालत ही इसका निर्णय कर सकती है। यह तथ्य भी महत्वपूर्ण है कि 41 सीटों पर 3500 से कम वोटों के अंतर से हार-जीत हुई है और 11 सीटों पर 1000 वोटों से भी कम का फासला रहा है।

अगर चुनाव नतीजे को बगैर किसी चुनौती के मानें तो कम से पांच ऐसे फैक्टर हैं जो महागठबंधन के खराब प्रदर्शन की वजह माने जा सकते हैं-

  • 1. वीआईपी को महागठबंधन में बनाए रखने में नाकामी
  • 2. हम को भी साथ बनाए नहीं रख सके तेजस्वी यादव
  • 3. सीमांचल में मुस्लिम वोट जोड़कर नहीं रख सका महागठबंधन
  • 4. 2015 का चुनाव प्रदर्शन सुधार नहीं सकी आरजेडी
  • 5. कांग्रेस को ऐसी 43 सीटें दीं जहां वह पिछले चार चुनाव नहीं जीत सकी थी


महागठबंधन छोड़ चुकीं वीआईपी-हम ने बदल दी सियासी तस्वीर

वीआईपी और हम दोनों ही महागठबंधन का हिस्सा थीं मगर चुनाव से ठीक पहले इन दोनों ने महागठबंधन छोड़ने का फैसला किया। वीआईपी ने तो तब गठबंधन छोड़ा जब तेजस्वी ने महागठबंधन की सीटें फाइनल कर लीं और यह छिपाए रखा कि वीआईपी को कितनी सीटें वो देने वाले हैं। वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी ने इसे पीछ में छुरा घोंपने जैसा कदम बताते हुए सीधे एनडीए का रुख कर लिया। वीआईपी और हम ने न सिर्फ एनडीए में जाकर 8 सीटें हासिल कीं बल्कि इन दोनों ने मिलकर कई सीटों पर महागठबंधन को नुकसान भी पहुंचाया। आरजेडी को इन दोनों दलों की उपेक्षा महंगी पड़ गयी जिसका खामियाजा महागठबंधन को भुगतना पड़ा। महागठबंधन को 110 सीटें और एनडीए को एक निर्दलीय समेत 126 सीटें मिली हैं। 16 सीटों के फर्क का मतलब है कि 8 सीटें भी उधर से इधर हो जाएं तो सरकार बदल जाती है। ये 8 सीटें हम और वीआईपी के पास हैं।

मुस्लिम वोटों के प्रति निश्चिंतता से भी बिगड़ी बात

सीमांचल में एआईएमआईएम को 5 सीटें मिलेंगी इसका आकलन महागठबंधन नहीं कर सका। मुस्लिम वोटों को एकजुट रख पाने की रणनीति गंभीर नज़र नहीं आयी। नतीजा यह हुआ कि कांग्रेस और आरजेडी दोनों दलों को सीमांचल में बड़ा नुकसान हुआ। यह नुकसान कांग्रेस को अधिक हुआ। यही पांच सीटें अगर महागठबंधन अपने खाते में डाल पाती तो निर्दलीय समेत जो 126 का आंकड़ा एनडीए के पास है वह 121 बनकर अल्पमत में नज़र आता। मुस्लिम वोटों को लेकर इतनी निश्चिंतता आरजेडी और कांग्रेस में दिखी कि वह घातक साबित हुआ।

आरजेडी पिछला प्रदर्शन भी दोहरा नहीं सका

यह भी सच है कि अगर आरजेडी ने 2015 वाला अपना प्रदर्शन दोहरा दिया होता यानी वह 80 सीटें भी बचा पाती तब भी एनडीए को सरकार बनाने से वह रोकने की स्थिति में होती। महागठबंधन का नेतृत्व करती आरजेडी से कम से कम इतनी अपेक्षा तो की ही जा सकती थी। उसने सबसे ज्यादा 143 सीटों पर चुनाव भी लड़ा और उसकी सीटें पहले से कम हो गयी।

कांग्रेस पर थोपी गयीं मुश्किल 43 सीटें

महागठबंधन का नेतृत्व करते हुए तेजस्वी यादव ने कांग्रेस को कई ऐसी बातें मानने को विवश किया जिससे चुनाव से पहले ही कांग्रेस के लिए नतीजे तय हो गये थे। कांग्रेस को गठबंधन में जो 70 सीटें मिलीं उनमें से 43 पर कांग्रेस पिछले चार चुनावों में जीत हासिल नहीं कर सकी थी। मतलब ये कि बीते चुनाव में 27 सिटिंग सीट के अलावा जितनी भी सीटें कांग्रेस को दी गयीं उन पर कांग्रेस की जीत की संभावना बहुत कम थी। कांग्रेस को मिली 70 सीटों में 67 सीटों पर बीते लोकसभा चुनाव के दौरान एनडीए को बढ़त मिली थी।

कांग्रेस की कई परंपरागत सीटें भी वामदलों को दे दी गयी। उदाहरण के लिए बेगूसराय जिले की मटिहानी सीट को लें। यह सीट सीपीएम कभी जीत नहीं सकती थी। कांग्रेस को नहीं मिली। कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे बाहुबली कामदेव सिंह के बेटे राजकुमार सिंह ने यहां से लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ा और कांटे के मुकाबले में तीन बार के विधायक जेडीयू को 333 वोटों से हराया। एलजेपी के इकलौते विधायक अब कांग्रेस में जाने की तैयारी में हैं।

वैसे वामदलों को साथ जोड़ना तेजस्वी का महत्वपूर्ण और बड़ा राजनीतिक कदम था। ऐसा नहीं होता तो महागठबंधन में आरजेडी और कांग्रेस दोनों की सीटें घटने के बाद वह सत्ता के आसपास भी नज़र नहीं आती। ये वामदल ही हैं जिनकी 16 सीटों की बदौलत महागठबंधन चुनावी रेस में एनडीए से मुकाबला करता दिखा। मगर, इसके लिए कांग्रेस से कुर्बानी ली गयी यह बात भी सच है।

महागठबंधन में कांग्रेस के मुकाबले एनडीए में जेडीयू की बुरी स्थिति

कांग्रेस 70 सीटों पर चुनाव लड़कर 19 जीत सकी तो आरजेडी 143 सीटों पर चुनाव लड़कर पहले से घट गयी। 80 से 75 हो गयी। स्ट्राइक रेट जरूर कांग्रेस का कम है। मगर, यही स्थिति एनडीए में बीजेपी और जेडीयू के बीच भी है। यहां स्ट्राइक रेट का फर्क और भी ज्यादा है। बीजेपी ने जेडीयू को दोष देने के बजाए मुख्यमंत्री का पद दे दिया। वहीं, महागठबंधन में कांग्रेस पर सवाल उठाए जा रहे हैं! यह चुनाव में हार के बाद की मनोवैज्ञानिक स्थिति का ही अंतर है।

यही वजह है कि शिवानन्द तिवारी के बयान से आरजेडी ने खुद को अलग कर लिया है। शिवानन्द तिवारी के बयान को इस नजरिए से भी देखा जा सकता है कि वे समय देखकर और सिर्फ अपने लिए बयान देते हैं। आश्चर्य नहीं हो कि राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए शिवानन्द तिवारी एनडीए का ध्यान अपनी ओर आकृष्ट कर रहे हों। मुमकिन है कि अपने बेटे को दूसरी बार आरजेडी विधायक बना लेने के बाद वे एक बार फिर पाला बदलने की सोच रहे हों। राज्यसभा सांसद नहीं बनने के कारण उन्होंने जेडीयू छोड़ी थी और आरजेडी में गये थे। मगर, आरजेडी ने खुद जेडीयू के साथ महागठबंधन बना लिया था। तब से वे पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे हैं। शिवानन्द तिवारी के बयान से उन सभी लोगों को कांग्रेस के नेतृत्व पर उंगली उठाने का अवसर मिलेगा जो अवसर की तलाश में रहे हैं। मगर, बिहार विधानसभा चुनाव नतीजे की समीक्षा करते वक्त कांग्रेस के साथ-साथ आरजेडी के फैक्टर को ध्यान में रखने की जरूरत है। इसके बगैर समग्र संतुलित समीक्षा नहीं हो सकती।

(संपादकीय टिप्पणी : मेरा यह आलेख सत्य हिन्दी में प्रकाशित हो चुका है। प्रेम कुमार)

Next Story
Share it